यूपी : कन्नौज में शिक्षा प्रेरकों के विरोध के बीच अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाया गया

यूपी : कन्नौज में शिक्षा प्रेरकों के विरोध के बीच अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाया गयासाक्षरता दिवस पर कार्यक्रम के बीच धरना प्रदर्शन

कन्नौज। अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्रेक्षागृह में एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसकी अध्यक्षता डीएम जगदीश प्रसाद ने की। मुख्य अतिथि एसपी हरीश चन्दर बने। इस कार्यक्रम में सुशीला देवी गर्ल्स इंटर कॉलेज, सी एन इंटर कॉलेज, सरस्वती विद्या मंदिर और जेपी गर्ल्स इंटर कॉलेज के बच्चों ने कई कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

इसी के साथ अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस का शिक्षा प्रेरकों ने विरोध किया। हाथों में काली पट्टी बांधकर काला दिवस मनाया। राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्रेक्षागृह में आयोजित हुए कार्यक्रम के बाहर हंगामा और नारेबाजी की।

ये भी पढ़ें-विशेष : लखनऊ में ब्लू व्हेल ने ली बच्चे की जान, मिर्जापुर एस.पी. ने शुरू किया अभियान

जिला मुख्यालय से करीब 50 किमी दूर बसे सौरिख ब्लॉक अध्यक्ष अंबरीश कुमार सिंह बताते हैं कि लखनऊ में शिक्षक दिवस पर हुई प्रेरकों पर लाठीचार्ज की घोर निंदा करता हूं। डीएम को कई बार मानेदय के लिए ज्ञापन दिया, लेकिन अभी तक नहीं मिला है। हम लोगों को मानदेय नहीं दे पा रहे तो रोजगार कहां से देंगे। अंबरीश आगे कहते हैं कि बीएलओ, राशनकार्ड सत्यापन और पल्स पोलियो अभियान की ड्यूटी करते हैं उसका भी भुगतान नहीं मिला है।

आदर्श साक्षरता कर्मी वेलफेयर एसोसिएशन जिलाध्यक्ष व जिला मुख्यालय से करीब 50 किमी दूर बसे भगवंतपुर छिबरामऊ निवासी आलोक यादव ने बताया, प्रेरकों को 17 से 22 माहीने का मानदेय नहीं मिला है। प्रशिक्षण नहीं कराया गया। प्रशिक्षण का पैसा नहीं मिला। चुनाव में ड्यूटी का भी भुगतान नहीं किया गया। चार बार साक्षरता परीक्षा हुई उसमें भी रबर और पेंसिल नहीं मिली।

ये भी पढ़ें-लखनऊ मेट्रो के एमडी ने चारबाग मेट्रो स्टेशन का मुआयना किया, यात्रियों को दी जानकारी

जसपुरापुर प्राथमिक विद्यालय से आए एक प्रेरक ने बताया कि वर्ष 2013 में प्रेरकों के प्रशिक्षण के लिए पांच लाख रूपए का बजट आया था, लेकिन कोई भी प्रशिक्षण नहीं हुआ। सभी बजट अफसरों ने मिल-बांटकर खा लिया।

प्रेरक बेहोश होकर इमरजेंसी में भर्ती

छिबरामऊ के भगवंतपुर निवासी 26 वर्षीय वंदना बाथम की हालत बिगड़ गई। बेहोश होकर गिरने के बाद मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। वहां ऑक्सीजन लगाकर हालत में सुधार किए जाने का प्रयास हो रहा था। तैनात फार्मासिस्ट ने बताया कि चक्कर आने और कमजोरी की वजह से ऑक्सीजन लगाई गई है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top