बाढ़ क्षेत्रों में लापरवाही हुई तो अधिकारियों पर होगी कार्रवाई - धर्मपाल सिंह

बाढ़ क्षेत्रों में लापरवाही हुई तो अधिकारियों पर होगी कार्रवाई - धर्मपाल सिंहसिचाई मंत्री (यांत्रिक) धर्मपाल सिंह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को सुरक्षित बचाने और जानमाल के नुकसान से लोगों को बचाने के लिए सिंचाई विभाग ने कमर कस ली है। गुरुवार को उत्तर प्रदेश के सिचाई मंत्री (यांत्रिक) धर्मपाल सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि विभाग के सचिव और विशेष सचिव स्तर के अधिकारी तत्काल बाढ़ से प्रभावित जनपदों का दौरा करके वहां पर सुविधाओं को उपलब्ध कराएं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि किसी भी कीमत पर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में जनधन एवं पशुहानि नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें- यूपी सरकार ड्रिप सिंचाई को राज्य में देगी प्रोत्साहन

सिंचाई मंत्री ने अधिकारियों को आदेश दिया कि यदि कहीं से भी जनहानि एवं जनता को असुविधा हई तो सम्बंधित अधिकारियों के विरुद्ध कड़ी दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बाढ़ से सम्बंधित बुलेटिन सिंचाई विभाग की वेबसाइट पर प्रत्येक दिन उपलब्ध कराया जाएगा, जिस पर सभी जनपदों की बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

सिंचाई मंत्री ने प्रमुख सचिव सुरेश चन्द्रा को निर्देश दिया कि एक वरिष्ठ अधिकारी की देख-रेख में एक सेल गठित किया जाए जो प्रत्येक दिन की बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों की अध्यतन रिपोर्ट शासन को उपलब्ध कराता रहे। धर्मपाल सिंह ने अधिकारियों को चेतावनी दी कि वे किसी भी दिन आकस्मिक हवाई सर्वेक्षण बाढ़ से प्रभावित जनपदों और क्षेत्रों की कर सकते है। उन्होंने कहा कि बाढ़ से प्रभावित जनपदों का भ्रमण करके स्थिति की जानकारी लेंगे।

ये भी पढ़ें- यूपी सरकार की तस्वीर खींचो, ईनाम पाओ योजना

सिंचाई मंत्री ने अधिकारियों को बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सर्वोच्च प्राथमिकता है कि किसी भी कीमत पर बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में जनधन और पशुहानि न होने पाए। इस बैठक में प्रमुख सचिव ने कहा कि वे स्वयं बाढ़ से प्रभावित जनपदों के जिलाधिकारी से सीधे सम्पर्क करे तथा जनता की सुविधा, सुरक्षा एवं अन्य आवश्यक सुविधाओं को उपलब्ध कराने हेतु दिशा-निर्देश देते रहे।

उन्होंने मंत्री जी को बताया कि सचिव एवं विशेष सचिव स्तर के अधिकारी लगातार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं और निर्देश दिया कि बाढ़ से निपटने में किसी प्रकार की हीला-हवाली बर्दाश्त नहीं की जाएगी। चन्द्रा ने बताया कि मैंने स्वयं प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करके आवश्यक दिशा-निर्देश दे दिए हैं। प्रमुख सचिव सुरेश चन्द्रा ने बताया कि विभाग के प्रमुख एवं मुख्य अभियंता को बाढ़ प्रभावित जिलों और वहां के स्थलों को आवंटित कर दिया गया है, जो प्रत्येक दिन शासन को रिपार्ट भेजना सुनिश्चित करेंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top