बंद कमरे में पड़े बैग, प्राथमिक विद्यालयों में बंटने का कर रहे इंतजार 

बंद कमरे में पड़े बैग, प्राथमिक विद्यालयों में बंटने का कर रहे इंतजार स्कूलों में बच्चों को अभी तक बैग नहीं मिले है।

राहुल गुप्ता, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कानपुर देहात। सूबे में पिछली सरकार में हुआ एक और घोटाला सामने आया है। दरअसल पिछली सपा सरकार ने अपने कार्यकाल में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक पाठशालाओं में पढ़ने वाले बच्चों को बैग बांटने थे, लेकिन चुनाव और आचार संहिता के चलते वो बैग नहीं बांटे गए।

ये भी पढ़ें- बुद्ध की शिक्षाएं पाठ्यक्रम में शामिल होंगी: जावड़ेकर

हमें ऊपर से बैग बांटने का आदेश नहीं मिला है। बैग कमरों में बंद हैं। जब आदेश आ जाएगा तो बैग बांट दिए जाएंगे।
प्रेम यादव, बीआरसी इंचार्ज, सरवनखेड़ा, कानपुर देहात

कानपुर देहात जिला मुख्यालय के सरवनखेड़ा ब्लॉक के सरकारी स्कूल इस सन्दर्भ में अध्यापकों का कहना है, “अगर बीआरसी से बैग स्कूल में भेजे जाते तो हम बैगों को बच्चों में बांट देते, लेकिन हमें अभी तक बैग नहीं दिए गए हैं।”जिलाधिकारी कानपुर देहात राकेश कुमार सिंह का कहना है, “बैगों का वितरण हो जाना चाहिए था। इसमें लापरवाही बरती गई है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top