वीडियो : 80 साल की बहू ने 110 साल की सास के लिए बकरियां बेचकर बनवाया शौचालय

Bharti SachanBharti Sachan   17 May 2017 8:25 PM GMT

वीडियो : 80 साल की बहू ने 110 साल की सास के लिए बकरियां बेचकर बनवाया शौचालयअपनी सास के साथ चंदना देवी।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कानपुर देहात। सास-बहू के रिश्ते को लेकर तमाम कहानियां, आपने सुनी होंगी, उनमें से ज्यादातर नकारात्मक होंगी। लेकिन कानपुर देहात के अनंतापुर में रहने वाली 80 साल की चंदाना देवी ने अपनी सास के लिए जो किया वो बहुत खास है।

चंदा के घर में शौचालय नहीं था और उनकी 110 वर्षीय सास माया देवी खेतों में शौच जाती थी, जिससे उन्हें परेशानी होती थी। सास की ये हालत चंदाना देवी से देखी नहीं गई और उन्होंने अपनी पांच बकरियां बेचकर सास के लिए शौचालय बनवा दिया

चंदाना देवी ने बताया, “मेरे घर की आर्थिक स्थिति सही नहीं है। इतना रुपया नहीं था कि शौचालय बनवा सकूं। लेकिन सास की उम्र ज्यादा है, वो अब बाहर नहीं जा सकती हैं, इसलिए मैंने अपनी बकरियों को बेचकर शौचालय बना लिया।”

सास को बहुत दिक्कत थी। इतना रुपया नहीं था कि शौचालय बनवा सकूं। इसलिए मैंने अपनी बकरियों को बेचकर शौचालय बनवा लिया।
चंदना देवी, बहू 80 साल, कानपुर देहात

शौचालय बनने के बाद चंदना देवी काफी खुश हैं।

ये भी पढ़िए- एक मजदूर जिसकी कहानी को 1,20,000 से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं, आप भी पढ़िए

करीब 400 लोगों की आबादी वाले इस गाँव में बहुत कम घरों में शौचालय हैं। शौचालय ही नहीं इस गाँव तक सरकारी सुविधाएं भी गिनती की पहुंची हैं। सरकार 60 साल के ऊपर के लोगों को वृद्धावस्था पेंशन देती हैं, लेकिन न तो मायादेवी को कोई पेंशन मिलती है न उनके पति को। मायदेवी की सास चंदाना देवी को कुछ साल पहले तक पेंशन मिलती थी, लेकिन उम्र बढ़ने पर जैसे-जैसे समस्याएं बढ़ीं अधिकारियों ने पेँशन बंद कर दीं। आर्थिक तंगी से जूझते माया देवी के परिवार के लिए बकरियां बड़ा सहारा थीं, लेकिन उन्हें सास का दर्द उससे कहीं ज्यादा लगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

ये भी पढ़ेंः-

गहने बेच कर शुरू किया महिला मजदूर ने मुर्गी पालन, अब कमा रही मुनाफा

ब्यूटी विद ब्रेन: अपने फैमिली बिजनेस को आगे बढ़ा रही ये बेटियां

तीन तलाक का ये है शर्मसार करने वाला पहलू , जिससे महिलाएं ख़ौफ खाती हैं

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top