कानपुर आईआईटी संवारेगा कानपुर नगर के पांच गाँवों का स्वरूप

Rajeev ShuklaRajeev Shukla   15 July 2017 5:18 PM GMT

कानपुर आईआईटी संवारेगा कानपुर नगर के पांच गाँवों का स्वरूपगाँवों का कायालल्प करने के लिए जिला प्रशासन करेगा आईआईटी की मदद

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कानपुर। जल्द ही बिठूर के पांच गाँवों की किस्मत बदलने वाली है, क्योंकि इन गाँवों का कायाकल्प करने की जिम्मेदारी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर ने ले ली है। इस काम में उनका सहयोग कानपुर नगर प्रशासन करेगा।

उन्नत ग्राम योजना के अंतर्गत इन पांचों गाँव का कायाकल्प किया जाएगा, यह गाँव ऐसे गाँव होंगे, जहां हर घर में शौचालय होगा, कूड़े का निस्तारण अनिवार्य किया जाएगा, बच्चों की शिक्षा गुणवत्ता पूर्ण होगी प्रत्येक व्यक्ति के बैंक में खाते होंगे।

ये भी पढ़ें - किसानों की ऋणमाफी को लेकर प्रशासनिक तैयारी तेज़

बिठूर के यह पांच गाँव बैकुंठपुर, ईश्वरीगंज, ह्रदयपूर, प्रतापपुर हरि ,सक्सूपुर हैं, जिनको उन्नत ग्राम योजना के अंतर्गत विकसित करने का बीड़ा आईआईटी कानपुर ने उठाया है। कानपुर जिला प्रशासन और गाँव के ग्रामीण हर प्रकार से इस कार्य में सहयोगी बनेंगे। गाँव के युवा शिक्षित हैं को स्वावलंबी बनाने के लिए उनकी ट्रेनिंग कराई जाएगी और उदय रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे गांव की महिलाओं को फूलों से अगरबत्तियां बनाने का तरीका हेल्प ग्रीन संस्था द्वारा किया जाएगा।

कानपुर नगर के मुख्य विकास अधिकारी अरुण कुमार ने बताया, "गाँव में विकास संबंधी कार्य कार्य योजना बनाकर कराए जाएंगे, इन योजनाओं को बनाने में गाँव के ग्रामीणों का भी सहयोग लिया जाएगा। गाँव में हर घर में शौचालय बनाया जाएगा इसके लिए वर्तमान समय में जिन घरों में शौचालय नहीं है। पंचायत सचिव के पास प्रार्थना पत्र देने को कहा गया है।"

ये भी पढ़ें - शारदा सागर डैम से मछलियों का हो रहा अवैध शिकार

कानपुर के जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया, "सरकार द्वारा शुरू की गई उन्नत ग्राम योजना के अंतर्गत इन पांच गाँवों को आईआईटी कानपुर ने गोद लिया है। इन गाँवों में शौचालय सड़क पानी आदि की व्यवस्था कराई जाएगी गाँव के हर घर में शौचालय होगा।’’ उन्होंने आगे बताया कि हर घर में बिजली होगी पीने के साफ पानी की व्यवस्था होगी ग्रामीणों को कूड़े का निस्तारण किस प्रकार करना है। यह भी सिखाया जाएगा गाँव के युवाओं और महिलाओं को स्वावलंबी बनाकर स्वरोजगार के अवसर भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top