पंजाब-हरियाणा के किसान को पीछे छोड़ेगा यूपी का किसान : कृषि मंत्री

पंजाब-हरियाणा के किसान को पीछे छोड़ेगा यूपी का किसान : कृषि मंत्रीयूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही।

लखीमपुर-खीरी। यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज लखीमपुर खीरी में कहा कि यूपी के किसान तकनीक का सहारा ले पंजाब हरियाणा के किसान को पीछे छोड़ेंगे। मंत्री सूर्य प्रताप शाही आज तीन दिवसीय किसान मेले के उद्घाटन में आए थे। कृषि मंत्री ने कहा कि 2022 तक किसानों की आय जरूर दोगुनी होगी।

मेले और समारोह का आयोजन भारतीय कृषि एवं खाद्य परिषद ने किया था। मेले में किसानों की फसलों के विविधीकरण और बाजार को लेकर न्यूजीलैंड और स्पेन के कृषि काउंसलर भी आए। इस दौरान तीन एमओयू पर दस्तखत किए गए। राष्ट्रीय कृषि विकास परिषद से खीरी जिले में कृषि उत्पादों के प्रसंस्करण उद्योग लगाने और कृषि विकास की योजनाएं बनाने पर चर्चा हुई। मंत्री सूर्य प्रताप ने बताया कि खीरी समेत यूपी के सात जिलों में मिर्च की खेती पर भी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में शामिल किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - अक्षय कुमार की सराहनीय पहल, आर्मी के जवानों के बाद किसानों के लिए उठाया कदम

किसान को मृदा कार्ड सौंपते कृषि मंत्री।

उन्होंने किसानों को खेतों में पुआल जलाने को लेकर आगाह किया, बोले पुआल जलाया तभी बारिश नहीं हो रही। शाही ने किसानों से कहा कि अंधाधुंध पानी बर्बाद न करें, स्प्रिंकलर, ड्रिप इरीगेशन से पानी की बचत होगी। सरकार ये यंत्र सब्सिडी पर दे रही है।

ये भी पढ़ें- किसानों की आमदनी बढ़ाने का फार्मूला तैयार, इस तरह पहनाया जाएगा अमलीजामा

समारोह को संबोधित करते कृषि मंत्री, साथ में हैं मुख्य अतिथि और आईसीएफए के चेयरमैन डॉ. एमजे खान (क्रीम कलर शूट)

यूपी में खेती के लिए अपार अवसरों को बताते हुए कहा कि यूपी जल्द पंजाब हरियाणा को पछाड़ेंगे। उंन्होने किसानों से स्वाइल हेल्थ कार्ड बनवाने की अपील की साथ ही कृषि विभाग के अफसरों को चेताया कि स्वाइल हेल्थ कार्ड बनाने में कोताही की तो कार्यवाई को तैयार रहें। उन्होंने बताया कि स्वाइल हेल्थ कार्ड से जमीनों की सेहत सुधरेगी। उन्होंने सरकार की योजनाओं और कृषि उत्पादों को बाजार से जोड़ने के तरीके और सरकार के प्लान भी बनाए। कहा कि सरकार किसानों को ई मंडियों से जोड़ रही है। यूपी सरकार किसान वैज्ञानिक और अफसरों के बीच सामंजस्य बनाने की कोशिश में है जिससे 2022 में यूपी का किसान खुशहाल होगा।

ये भी पढ़ें - मिट्टी की डॉक्टर है ये मशीन, देखिए मिनटों में कैसे करती है जांच

अच्छी पैदावर के लिए कराएं मिट्टी की जांच

ये भी पढ़ें- आयुर्वेट के एमडी मोहन जे सक्सेना का इंटरव्यू : ‘डेयरी से कमाना है तो दूध नहीं उसके प्रोडक्ट बेचिए’

Share it
Share it
Share it
Top