आज से दुधवा की यात्रा कर सकेंगे पर्यटक

आज से दुधवा की यात्रा कर सकेंगे पर्यटकप्रतीकात्मक फोटो 

लखीमपुर खीरी (भाषा)। उत्तर प्रदेश स्थित प्रख्यात दुधवा नेशनल पार्क बुधवार से अगले सात महीनों तक पर्यटकों के स्वागत के लिए खुल जाएगा। नेशनल पार्क प्रति वर्ष 15 नवंबर को खुलता है और 15 जून को बंद हो जाता है।

नये पर्यटन सत्र के बारे में दुधवा नेशनल पार्क के उप निदेशक महावीर कौजालगी ने बताया कि उद्यान में बने जंगल के रास्तों और छोटे पुलों की मरम्मत कर दी गयी है ताकि पर्यटन वाहनों के आवागमन के कोई परेशानी न हो। पर्यटकों के ठहरने का बेहतर इंतजाम किया गया है। पर्यटकों के रुकने के लिए दुधवा में आधुनिक शैली में थारु हट उपलब्ध हैं। रेस्ट हाउस-प्राचीन इण्डो-ब्रिटिश शैली की इमारतें भी पर्यटकों के लिये उपलब्ध हैं।

उन्होंने बताया कि उद्यान के भीतर पर्यटन के लिए विशेष वाहनों की व्यवस्था की गयी है। जो पर्यटक अपने वाहन से उद्यान में घूमना चाहते हैं, उन्हें कड़ी सुरक्षा जांच से गुजरना होगा। जांच सबकुछ ठीक मिलने पर ही उन्हें अंदर जाने की इजाजत दी जायेगी। इसके अलावा पचास गाइड भी हैं जो पर्यटकों को विशेष दूरबीन की मदद से मनोरम प्राकृतिक दृश्यों के दर्शन करायेंगे। कौजालगी ने बताया कि प्रदेश सरकार ने इस साल कर्नाटक पार्क से 11 हाथी मंगवाये हैं। हमारे पास 14 हाथी पहले से हैं, इन नये हाथियों के आने से पर्यटकों को घूमने में और आनंद आयेगा। यह नये हाथी अगले कुछ सप्ताह में दुधवा नेशनल पार्क पहुंच जाएंगे।

ये भी पढ़ें-पीलीभीत में एक हजार एकड़ ज़मीन पर बनेगा टाइगर सफारी

उन्होंने बताया कि दुधवा नेशनल पार्क में द्विवार्षिक बाघ गणना की प्रारंभिक तैयारी पूरी कर ली गयी है। उन्होंने कहा कि दुधवा नेशनल पार्क, किशनपुर वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी और करतनिया सैंक्चुअरी में कैमरे की मदद से प्रत्येक दो वर्ष में बाघों की गिनती की जाती है. इसके लिये दुधवा पार्क में विभिन्न स्थानों पर 450 कैमरे लगाये गये हैं। उन्होंने कहा कि बाघों की गिनती का काम अगले कुछ दिनों में शुरू हो जायेगा और यह अगले दो महीने तक चलेगा।

दुधवा नेशनल पार्क उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्र में स्थित है। लखीमपुर खीरी जनपद में स्थित यह संरक्षित क्षेत्र भारत और नेपाल की सीमाओं से लगे विशाल वन क्षेत्र में फैला है। 1977 में दुधवा के जंगलों को राष्ट्रीय उद्यान बनाया गया। सन 1987-88 में किशनपुर वन्य जीव विहार को दुधवा राष्ट्रीय उद्यान में शामिल कर लिया गया तथा इसे बाघ संरक्षित क्षेत्र घोषित कर दिया गया।

ये भी पढ़ें-टाइगर रिजर्व में अब सैर सपाटा पड़ेगा महंगा

उद्यान में बने जंगल के रास्तों और छोटे पुलों की मरम्मत कर दी गयी है ताकि पर्यटन वाहनों के आवागमन में कोई परेशानी न हो। पर्यटकों के ठहरने का बेहतर इंतजाम किया गया है। पर्यटकों के रुकने के लिए दुधवा में आधुनिक शैली में थारु हट उपलब्ध हैं। रेस्ट हाउस-प्राचीन इण्डो-ब्रिटिश शैली की इमारतें भी पर्यटकों के लिये उपलब्ध हैं।
महावीर कौजालगी, उप निदेशक, दुधवा नेशनल पार्क

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top