श्री श्री रविशंकर ने मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात की  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   15 Nov 2017 12:51 PM GMT

श्री श्री रविशंकर ने मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात की  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  से मुलाकात करते श्री श्री रविशंकर।

लखनऊ (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में राम मंदिर निर्माण को लेकर सुलह कराने की कोशिश में जुटे आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। मुख्यमंत्री के सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग पर हुई इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है।

श्री श्री रविशंकर ने मुलाकात के दौरान अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे पर उनसे चर्चा की। मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद श्री श्री रविशंकर अपने करीबी पंडित अमरनाथ मिश्र के आवास पर मुस्लिम संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करने चले गए।

श्री श्री रविशंकर गुरुवार को अयोध्या जाएंगे, जहां वह अयोध्या विवाद से जुड़े सभी पक्षकारों से मिलकर सुलह का रोडमैप साझा करेंगे। वह मुस्लिम समाज से भी बातचीत करेंगे। वह मंत्री मोहसिन रजा से भी मुलाकात कर इस मसले पर चर्चा करेंगे।

इससे पहले मंगलवार को वृंदावन में श्री श्री रविशंकर ने कहा था कि इस मुद्दे पर उनकी मध्यस्थता सकारात्मक परिणाम तक पहुंचेगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि सभी पक्षकार आपसी सहमति से मंदिर मामले में निर्णायक फैसला निकालने का प्रयास करेंगे।

मुख्यमंत्री योगी ने भी रविशंकर की मुलाकात को लेकर कल ही कहा था कि अगर कोई सुलह के लिए आगे आता है तो हम उसका स्वागत करेंगे।

उत्तर प्रदेश सरकार के एक अधिकारी ने बताया, यह दोनों के बीच एक शिष्टाचार मुलाकात थी। बैठक ठीक ठाक रही और करीब 15 से 20 मिनट तक चली। उन्होंने बताया कि जहां तक अयोध्या का मामला है, मुख्यमंत्री जी का रुख पूरी तरह से साफ है, राज्य सरकार इस मामले में पक्षकार नहीं है, सरकार अदालत के हर फैसले का सम्मान करेगी।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गौरतलब है कि 13 नवंबर को श्री श्री रविशंकर ने कहा था वह अपनी ओर से मंदिर विवाद में मध्यस्थता करने 16 नवंबर के अयोध्या जाएंगे और सभी पक्षकारों से मिलेंगे। उन्होंने कहा था, मेरा इस मुद्दे पर कोई एजेंडा नहीं है और अपनी अयोध्या यात्रा के दौरान मैं सभी की बातें सुनूंगा।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top