लखनऊ: लोहिया अस्पताल की पोस्टमार्टम हाउस में रखे शव को कुत्तों ने नोचा, जांच के आदेश

लखनऊ: लोहिया अस्पताल की पोस्टमार्टम हाउस में रखे शव को कुत्तों ने नोचा, जांच के आदेशलोहिया अस्पताल

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के विभूतिखंड थाना क्षेत्र स्थित डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में डॉक्टरों और कर्मचारियों की लापरवाही सामने आई है। बताया जा रहा है कि यहां पड़े एक महिला के शव को कुत्ते नोच रहे थे, लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। तीमारदारों ने जब ये नजारा देखा तो उनके होश उड़ गए। इसकी सूचना पुलिस को दी गई, सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और आगे की कार्रवाई की।

पुलिस के मुताबिक, चिनहट थाना क्षेत्र के सिकंदरपुर की रहने वाली पुष्पा तिवारी (40) नाम की महिला ने बीती रात घरेलू विवाद के चलते कीटनाशक पी लिया था। इसके बाद उसे परिजनों ने डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई थी। मौत के बाद महिला को पोस्टमार्टम हॉउस में रखवा दिया था। देर रात पीएम हॉउस का चैनल बंद कर दिया गया था। लोहे के चैनल का कुछ हिस्सा खुला था, इसी के रास्ते से कुत्तों ने प्रवेश किया। कुत्तों ने मृत महिला के मुंह को नोच कर खा लिया। खून से लथपथ महिला के शव को कुत्तों ने खूब घसीटा। कुत्तों के खून से सने पैरों के निशान फर्श पर देख वहां परिजनों के होश उड़ गए।

अभी पिछले दिनों डॉक्टरों की लापरवाही ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई घटना से पूरे देश में यूपी को शर्मसार किया था। इसके कुछ दिन बाद ही लोहिया अस्पताल में हुई इस घटना ने स्वास्थ्य विभाग को शर्मासर कर दिया है। महिला के शव को कुत्तों ने नोच नोंच कर खाया। इसमें अस्पताल प्रशासन, डॉक्टरों तथा अस्पताल के कर्मचारियों की घोर लापरवाही सामने आ रही है।

चिनहट निवासी 40 वर्षीय पुष्पा तिवारी को शनिवार शाम 5:30 बजे लोहिया अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया। आरोप है कि पुष्पा ने जहर खा लिया था। डॉक्टरों ने गंभीर हालत बताते हुए मरीज को भर्ती किया। इलाज के दौरान उसकी सांसें थम गईं। पति विनोद शव ले जाने लगे तो डॉक्टरों ने उन्हें रोक लिया। कहा बिना पोस्टमार्टम के शव नहीं ले जाया जा सकता। विनोद ने बताया शाम को अस्पताल की मोर्चरी में पत्नी का शव रखवाया था। बाकायदा डीप फ्रीजर में ताला भी लगाया गया था। इसके बाद वह घर चले गए।

मृतक महिला के पति विनोद ने बताया कि सुबह करीब 8 बजे जब वह शव लेने के लिए अस्पताल पहुंचे तो देखा मोर्चरी के पास शव पड़ा हुआ था। सिर पर गहरे जख्म थे। चेहरा भी क्षत-विक्षत था। शव के पास कुत्ते के पंजे के निशान बने हुए थे। खून व मांस के लोथड़े आसपास बिखरे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि इलाज के दौरान पुष्पा के शरीर पर तमाम गहने थे। इसमें मंगलसूत्र, अंगूठी, बिछिया, पायल और कान में बुंदे थे। शव लेने पहुंचे तो शरीर पर एक भी जेवर नहीं था। जानकारी के मुताबिक करीब 22 साल पहले सीतापुर निवासी पुष्पा तिवारी की विनोद से शादी हुई थी। दंपति के दो बच्चे बेटा अभिषेक और बेटी प्राची हैं।

यूपी के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी के मुताबिक, ''इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सिक्युरिटी कंपनी के सुपर वाईजर, वॉर्ड ब्वॉय और गार्ड को टर्मिनेट कर दिया गया है। अभी इस मामले की जांच चल रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद जो भी लोग दोषी होंगे। उन सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।''

लोहिया हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. डीएस नेगी के मुताबिक, ''डेड बॉडी को रात में मॉर्चुरी के अंदर रखने के बाद बाहर से ताला बंद कर दिया गया था। किसी शरारती तत्व ने रात में गेट का ताला तोड़ दिया। उसके बाद कुतों ने डेड बॉडी को नुकसान पहुंचाया है। इस मामले की जांच मैं खुद कर रहा हूं। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top