लखनऊ: अब शादी-विवाह के अवसर पर छुड़ाई आतिशबाजी तो जाना पड़ सकता है जेल

लखनऊ: अब शादी-विवाह के अवसर पर छुड़ाई आतिशबाजी तो जाना पड़ सकता है जेलप्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ। राजधानी लखनऊ को प्रदूषण मुक्त करने के लिये जिला प्रशासन ने सख्त कदम उठाते हुए शादी विवाह या मांगलिक कार्यक्रम के दौरान होने वाली आतिशबाजी पर रोक लगा दी है। नियम का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा साथ ही जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।

यह जानकारी जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने दी। उन्होंने बताया कि राजधानी में 16 नवंबर से 15 जनवरी 2018 तक मांगलिक कार्यक्रम में आतिशबाजी पर रोक लगा दी गई है। बताया कि मांगलिक कार्यक्रम के दौरान होने वाली आतिशबाजी से पर्यावरण की समस्या और भयावह रूप लेती जा रही है जो जनसमुदाय के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल रही है।

ये भी पढ़ें- योगी ने वायु प्रदूषण को नियंत्रण करने के लिए दिये पानी का छिड़काव करने के निर्देश

इसके कारण जनहित में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत प्रतदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए राजधानी क्षेत्र में 15 जनवरी 2018 तक के लिए वैवाहिक व मांगलिक कार्यक्रमों सहित किसी भी तरह के आयोजन व प्रायोजन में आतिशबाजी छुड़ाने व पटाखा चलाने पर सख्ती से प्रतिबंध लागू किया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।
संबंधित खबरें- मास्क छोड़िए , गाँव का गमछा प्रदूषण से आपको बचाएगा ...

मुश्किल में सांसें, दुनियाभर के 80 फीसदी शहर वायु प्रदूषण के चपेट में

प्रदूषण के कारण तेजी से बढ़ रही अस्थमा के मरीजों की संख्या

विशेष : घुटने वाली हैं सांसें, भारत में एक व्यक्ति के लिए सिर्फ 28 पेड़ बचे

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top