कारीगरों तक पहुँचना चाहिए सरकार द्वारा जारी योजनाओं का लाभ : रीता बहुगुणा जोशी

कारीगरों तक पहुँचना चाहिए सरकार द्वारा जारी योजनाओं का लाभ : रीता बहुगुणा जोशीरीता बहुगुणा जोशी

लखनऊ। प्रदेश में दस्तकारी के काम एवं कारीगरों के कौशल पर आज पर्यटन विभाग तथा कोटवारा स्टूदियोज, रूमी फाउण्डेशन एवं नेशनल एचआरडी नेटवर्क के साथ संयुक्त रूप से एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में प्रसिद्ध फिल्म निर्माता मुजफ्फर अली द्वारा बनारसी साड़ी बनाने की कला तथा कारीगरों के साथ एवं लखनऊ के जरदोजी, कामदानी तथा चिकनकारी की कढ़ाई और उसके कारीगरों के साथ फिल्माई गई दो फिल्मों का प्रदर्शन किया गया।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि रहीं प्रदेश की पर्यटन मंत्री प्रो. रीता बहुगुणा जोशी ने शानदार सांस्कृतिक परिवेश के साथ जोड़कर तैयार की गई फिल्मों की प्रशंसा करते हुए कहा कि फिल्में सिर्फ इस कारीगरी की पृष्ठभूमि ही नहीं दर्शाती हैं, बल्कि यह भी बताती हैं कि देश में कारीगरी का काम करने वाले कारीगरों में 60 प्रतिशत कारीगर उत्तर प्रदेश के हैं। हमारे प्रदेश में बहुत बड़े स्तर पर शिल्पकार और कारीगर हैं, जिनके द्वारा किये कार्यों का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत महत्व है। प्रदेश के क्राफ्ट का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार कर इसे पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा सकता है। प्रोफेसर जोशी ने अपने वकतव्य में शिल्पकारों और कारीगरों तक सरकार द्वारा जारी योजनाओं का पूरा लाभ न पहुँच पाने के प्रति गहरा क्षोभ व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि वास्तविक लाभ कारीगरों तक पहुँचना चाहिए जिससे उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो सके।

ये भी पढ़ें : सौर ऊर्जा ड्रायर की मदद से कई महीनों तक सुरक्षित रख सकते हैं हरी सब्जियां

प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने फिल्म निर्माता मुजफ्फर अली को बनारस और लखनऊ की दस्तकारी पर फिल्म निर्माण के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि इस प्रकार की फिल्मों से विदेशों तक में दस्तकारी को करने की कला देखने के प्रति जिज्ञासा बढ़ेगी और प्रदेश के ‘क्राफ्ट पर्यटन’को विस्तार मिलेगा। उन्होंने घोषणा की 27 सितम्बर, 2017 को ‘विश्व पर्यटन दिवस’’ के अवसर पर पर्यटन विभाग द्वारा ‘वन स्टाप पोर्टल’ का शुभारम्भ किया जायेगा।

कार्यक्रम में फिल्मनिर्माता मुजफ्फर अली के साथ भुवनेश कुमार सचिव व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास, जोहरा चटर्जी पूर्व सचिव टेक्सटाइल भारत सरकार, मीरा अली डिजाइनर एवं आर्किटेक्ट तथा पदमश्री पुरस्कार विजेता तथा बनारसी साड़ी के मास्टर बुनकर प्रभास की गरिमामयी उपस्थिति सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें : आलू की खेती के लिए उपयुक्त समय, जानिये कौन-कौन सी हैं किस्में

Share it
Top