यूपी में मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर दुर्घटना रोकने के लिए तैनात होंगे होमगार्ड 

यूपी में मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर दुर्घटना रोकने के लिए तैनात होंगे होमगार्ड प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। रेल दुर्घटनाओं से बचने के लिए अब मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर होमगार्ड तैनात होंगे। रेलवे विभाग ने इस बाबत होमगार्ड विभाग को होमगार्डों को तैनात करने को कहा। इसी के तहत होमगार्ड विभाग ने 11 जिलों की 143 मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर होमगार्डो को तैनात करने का फैसला किया है।

उत्तर रेलवे (एनआर) लखनऊ के मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) सतीश कुमार ने बताया, "यह फैसला मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर होनेवाले हादसों को बचाने के लिए किया जा रहा है। होमगार्डों की तैनाती इस माह के जल्द पूरी होने की संभावना है।"

होमगार्ड विभाग के केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ के कमांडेट संजीव कुमार शुक्ल ने बताया, "रेलवे विभाग द्वारा प्रदेश के 11 जिलों में मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर होमगार्ड के जवानों को लगाये जाने को कहा था। यह जिले अंबेडकरनगर, फैजाबाद, इलाहाबाद, प्रतापगढ़, रायबरेली, सुल्तानपुर, जौनपुर, अमेठी, बाराबंकी, उन्नाव और लखनऊ है।" संजीव आगे बताते हैं, "रेलवे विभाग के 143 मानव रहित क्रासिंग में आठ-आठ घंटे की तीन शिफ्ट में 429 होमगार्डों की तैनाती की जा रही है। इस बाबत सभी जिलों के होमगार्ड विभाग को निर्देश दे दिये गये है कि वह अपने अपने जिलों में तैनाती के लिये होमगार्डों का चयन कर लें।"

ये भी पढ़ें- वरिष्ठ नागरिकों के साथ-साथ किसानों और छात्र-छात्राओं को भी रेलवे देता है टिकट में भारी छूट

रेलवे ने होमगार्ड विभाग को लिखा पत्र

उत्तर रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक सतीश कुमार ने बताया कि मानव रहित मानव क्रासिंग पर होमगार्ड तैनाती के लिए एक सप्ताह पहले होमगार्ड विभाग को पत्र लिखा गया था। होमगार्ड विभाग जल्दी ही होमगार्डों की तैनाती मानव रहित क्रासिंग पर कर देगा। उम्मीद है कि इस माह के दूसरे सप्ताह तक यह होमगार्ड मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर तैनात हो जायेंगे।

ये भी पढ़ें- भीम और यूपीआई ऐप से रेल टिकट करें बुक, फ्री में सफर करने का पाएं मौका

21 से 50 वर्ष तक के होमगार्डों की होगी तैनाती

होमगार्ड कमांडेट संजीव कुमार शुक्ल ने बताया कि इस ड्यूटी पर 21 से 50 वर्ष की आयु के बीच के होमगार्डों को लगाया जायेगा। रेलवे विभाग द्वारा ड्यूटी के दौरान इन होमगार्डों को सुरक्षा संबंधी नियमों के पंफलेट दिये जायेंगे, जो उनके द्वारा जनता को दिये जायेंगे। इन सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ निकट के थाने में एफआईआर दर्ज कराने का अधिकार रेलवे विभाग द्वारा होमगार्ड के जवानों को प्रदान किया गया है।

ये भी पढ़ें- रेलवे टिकट बुकिंग एजेंट बनकर कर सकते हैं अच्छी कमाई, ऐसे करें आवेदन

होमगार्ड को दिया जाएगा एक मोबाइल और रेलवे परिचय पत्र

होमगार्ड कमांडेट संजीव कुमार शुक्ल ने बताया कि रेलवे विभाग द्वारा ड्यूटी पर तैनात होमगार्ड को एक मोबाइल फोन उपलब्ध कराया जायेगा, जिससे वह निकट के रेलवे कार्यालय एवं रेलवे कंट्रोल रूम से संपर्क कर सकेंगे। इसके अलावा रेलवे द्वारा उन्हें परिचय पत्र भी दिया जायेगा। इन होमगार्डों को तीन शिफ्टों में आठ-आठ घंटे की ड्यूटी पर सुबह दोपहर और शाम को लगाया जायेगा।

ये भी पढ़ें- अगर रेलवे की बात मान ले बैंक तो और सस्ती मिलेगी ट्रेन टिकट, जानें कैसे

प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में होगा भुगतान

मंडल रेल प्रबंधक सतीश कुमार ने बताया कि इन होमगार्डों को ड्यूटी भत्ते का भुगतान प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में उनके एकाउंट में रेलवे द्वारा किया जायेगा। रेलवे विभाग के सक्षम अधिकारी होमगार्डों की ड्यूटी की नियमित रूप से चेकिंग करेंगे। इसके अलावा रेलवे द्वारा ड्यूटी पर तैनात होमगार्डों को फ्लैग, टार्च, फोल्डिंग चेयर, मेज, अस्थायी हट, रेनकोट और एलईडी लैंप उपलब्ध कराया जायेगा। इसके अलावा होमगार्ड को रेलवे द्वारा उपलब्ध करायी गयी सेफ्टी जैकेट भी पहननी होगी।

ये भी पढ़ें:- लखनऊ में बड़े रेल हादसे की साजिश नाकाम, ट्रैक से गायब मिलीं 77 पेंडोल क्लिप्स

ये भी पढ़ें:- जानिए क्या है उजाला योजना, कैसे हर घर को मिलेगा आधी कीमत पर LED बल्ब

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top