हनी ट्रैप के जाल में फंसा कर मिड-डे मील कॉन्ट्रैक्टर से मांगे पचास लाख रुपए, महिला सहित चार गिरफ्तार

हनी ट्रैप के जाल में फंसा कर मिड-डे मील कॉन्ट्रैक्टर से मांगे पचास लाख रुपए, महिला सहित चार गिरफ्तारमिड डे मील कॉन्ट्रैक्टर से रुपए मांगने के आरोप में पकड़े गए आरोपियों के बारे में मीडिया को जानकारी देते लखनऊ एसएसपी दीपक कुमार और साथ में हैं एएसपी क्राइम डा. संजय सिंह। 

लखनऊ। हनी ट्रैप का प्रयोग अभी तक हाई-प्रोफाइल मामलों में किया जाता था, लेकिन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के अपराधी इसका इस्तेमाल ब्लैकमेल कर लाखों रुपए कमाने के लिए कर रहे हैं। मामला हुसैनगंज का है, जहां कुछ बदमाशों ने इंटरनेट के माध्यम से बैंगलोर के एक बड़े कॉन्ट्रैक्टर को लखनऊ बुलाया और होटल में मुलाकात कर उसे एक हनी ट्रैप में शामिल महिला परोस दी। इस जालसाजी को कॉन्ट्रैक्टर भांप नहीं पाया और वह अपराधियों का शिकार हो गया।

शातिर बदमाशों ने युवती के साथ कॉन्ट्रैक्टर का अश्लील वीडियो बना उससे पचास लाख रुपए की रंगदारी मांगी। इस रकम को अपराधियों ने पांच दिनों के अंदर देने का अल्टीमेटम दिया था। इसकी सूचना कॉन्ट्रैक्टर पारसमल ने आईजी सतीश गणेश को दी।

आईजी ने मामले की गंभीरता देखते हुए थाना हुसैनगंज में मुकदमा दर्ज करने का आदेश देने के साथ-साथ क्राइम ब्रांच और सर्विलांस टीम को कार्रवाई कर आरोपियों की धर-पकड़ करने का निर्देश दिया। इस सिलसिले में पुलिस ने बुधवार देर रात हनी ट्रैप में शामिल महिला सहित अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, पारसमल पुत्र इन्दरम जी शाह निवासी तृतीय एमबीटी, स्ट्रीट नगरम्पर बैंग्लौर के मिड-डे मील में स्टील प्लेट स्प्लाई कॉन्ट्रैक्टर हैं। उन्हें देव सिंह नाम के शख्स ने फोन कर मिड-डे मील में ठेका दिलाने के नाम पर 21 मार्च को लखनऊ बुलाया, जहां वह पारसमल को चारबाग स्टेशन अपनी स्कूटर से लेने गया और उसे हुसैनगंज स्थित एक होटल में ठहरा दिया। रात में साथियों संग दोबारा होटल आने की बात कह कर आरोपी देव वहां से चला गया।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

एसएसपी ने बताया कि, सभी आरोपी उस होटल में दोबारा गए। जहां अपने साथ वह सरिता मिश्रा नाम की महिला को भी ले गए थे। इस दौरान एक आरोपी सुधेश ने कॉन्ट्रैक्टर पारसमल के खाने में नशीला पदार्थ मिला दिया, जिसके चलते वह बेहोश हो गया। उनकी बेहोशी का फायदा उठाकर सभी आरोपियों ने सरिता के साथ कॉन्ट्रैक्टर पारसमल की आपत्तिजनक वीडियो बना उन्हें ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया।

अश्लील वीडियो के एवज में अपराधियों ने पारासमल से पचास लाख रुपए की रंगदारी मांगी। उनके चंगुल से बचने के लिए कॉन्ट्रैक्टर ने पचास हजार रुपए देकर आरोपियों से अपनी जान बचाई। पूरी घटना पारसमल ने लखनऊ के अपने एक साथी से साझा की। घटना की सूचना कॉन्ट्रैक्टर ने तत्काल अपने साथी के साथ जाकर आईजी सतीश गणेश को दी।

आईजी ने तत्काल पूरे मामले का संज्ञान लेते हुए तत्कालीन एसएसपी मंजिल सैनी को आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए। इस प्रकरण की जांच कर रहे स्वाट टीम प्रभारी फजलउर्रहमान खान, प्रभारी सर्विलांस अमरेश त्रिपाठी समेत हुसैनगंज पुलिस ने डेढ़ महीने की कड़ी मशक्कत के बाद बुधवार रात मास्टर माइंड देव सिंह, सुधेश कुमार, हनी ट्रैप में शामिल सरिता मिश्रा और विनोद तिवारी को पारा क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है।

Share it
Top