उत्तर प्रदेश

कोहरे की चपेट में उत्तर भारत, स्कूल बंद, फसलों के लिए सतर्क रहे किसान

लखनऊ। उत्तर भारत के ज़्यादातर इलाके गुरुवार रात से ही घने कोहरे की चपेट में है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी भारी कोहरा रहा। हालांकि शुक्रवार दोपहर में हल्की धूप निकलने से लोगों को थोड़ी राहत मिली, मगर शाम छह बजे के बाद एक बार फिर कोहरे ने राजधानी को अपनी चपेट में ले लिया आज सुबह कोहरा कुछ कम हुआ लेकिन गलन बढ़ गयी।

अभी रहेगा ऐसा ही मौसम

मौसम विभाग के अनुसार, शनिवार को ऐसा ही कोहरे का असर देखने को मिल सकता है। उत्तर प्रदेश के मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता के अनुसार, दिन में कोहरा छाया रहेगा और दृश्यता 50 मीटर तक रहने का अनुमान है। पिछले 24 घंटों के दौरान राजधानी में 2 डिग्री न्यूनतम तापमान नीचे गिरा है। 29 दिसंबर यानि शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 9 डिग्री दर्ज किया गया, जबकि अधिकतम तापमान 19 डिग्री दर्ज किया गया। हालांकि 30 दिसंबर यानि शनिवार को भी राजधानी लखनऊ समेत आसपास के इलाकों में मध्यम कोहरा बने रहने की संभावना है।

ग्रामीण क्षेत्रों में दिन में भी छाया रहा कोहरा

राजधानी लखनऊ के आसपास के इलाकों और गाँवों में दोपहर में भी मध्यम कोहरा छाया रहा और धूप के दर्शन नहीं हुए। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में सबसे ज्यादा ठंड पड़ी है और वहां का न्यूनतम तापमान 4 डिग्री रिकॉर्ड किया गया है।

कोहरे गिरने पर बढ़ी ठंड, स्कूल बंद

दूसरी ओर कोहरे गिरने से बढ़ी ठंड की वजह से लखनऊ जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने शुक्रवार को 4 जनवरी तक स्कूलों को बंद करने के निर्देश दिए हैं। निर्देशों के अनुसार, 4 जनवरी तक कक्षा आठ तक सभी स्कूल बंद रहेंगे। वहीं कक्षा 9 से 12 के बच्चों के लिए स्कूल का समय 10 बजे करने का निर्देश जारी किया गया है।

इस फसलों के लिए नुकसानदायक यह मौसम

इस समय अधिकतर किसानों ने रबी फसलों की बुवाई की कर ली है। दिसंबर के महीने में कोहरा और सर्दी बढ़ने से फसलों में पाला और शीत लहर की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे समय में फसलों को ज्यादा नुकसान हो जाता है। टमाटर, आलू, मिर्च, बैंगन, भिन्डी आदि सब्जियों, पपीता, आम और केले के पौधों व मटर, चना, अलसी, जीरा, धनिया, सौंफ अफीम आदि फसलों में सबसे ज्यादा 80 से 90 प्रतिशत तक नुकसान हो सकता है। अरहर में 70 प्रतिशत, गन्ने में 50 प्रतिशत एवं गेहूं तथा जौ में 10 से 20 प्रतिशत तक नुकसान हो सकता है।

गन्ने की फसल के लिए लाभदायक

दूसरी ओर सर्दी के मौसम में पिछले तीन-चार दिनों से पड़ रहा कोहरा गन्ने की फसल के लिए काफी लाभदायक है। पिछले वर्ष की तरह अबकी बार भी कोहरा पड़ने के कारण क्षेत्र में गन्ना की फसल रिकॉर्ड तोड़ होने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिक गन्ने की फसल के लिए लगातार कोहरा और सर्दी पड़ना अच्छा मान रहे है।

यह भी पढ़ें: आलू सरसों समेत कई फसलों के लिए काल है ये कोहरा और शीत लहर, ऐसे करें बचाव

गन्ने के लिए अमृत तो आलू,सरसों के लिए काल है ये कोहरा

आगरा एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की भेंट चढ़ा पूरा परिवार, हादसे में 6 लोगों की मौत