यूपीएटीएस व महाराष्ट्र एटीएस को मिली भारी सफलता, फैजाबाद के बाद मुम्बई में एक और आईएसआई एजेंट को पकड़ा 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   4 May 2017 4:46 PM GMT

यूपीएटीएस व महाराष्ट्र एटीएस को मिली भारी सफलता, फैजाबाद के बाद मुम्बई में एक और आईएसआई एजेंट को पकड़ा प्रतीकात्मक फोटो।

लखनऊ/मुम्बई (भाषा)। उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के संदिग्ध एजेंट की फैजाबाद में गिरफ्तारी के बाद उसे जासूसी के बदले धन देने वाले एक और संदिग्ध आईएसआई एजेंट को आज मुम्बई से गिरफ्तार कर लिया।

उत्तर प्रदेश एटीएस के महानिरीक्षक असीम अरूण ने यहां बताया कि महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश की एटीएस की संयुक्त कार्रवाई में कल गिरफ्तार किए गए अल्ताफ कुरैशी के सहयोगी एजेंट मुम्बई के अग्री पाडा निवासी जावेद को आज सुबह गिरफ्तार कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि जावेद को ही पाकिस्तान से धन जमा करने के निर्देश मिलते थे और उसके बताने पर अल्ताफ ने खाते में धन जमा कराया था। उसके पास से पुख्ता प्रमाण मिले हैं कि उसने कल फैजाबाद में पकड़े गए आईएसआई एजेंट आफताब (फैजाबाद) के खाते में पाकिस्तान में सक्रिय एक एजेंट के निर्देश पर जासूसी के एवज में धन जमा किया था।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

महाराष्ट्र एटीएस के साथ मिलकर उससे पूछताछ की जा रही है, अन्य एजेन्टों के भी नाम सामने आने की उम्मीद है। दोनों अभियुक्तों अल्ताफ और जावेद को आज मुम्बई की अदालत में इंस्पेक्टर अविनाश मिश्र पेश करेंगे और ट्रांजिट रिमांड का आदेश लेकर दोनों को लखनऊ लाया जाएगा।

उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र एटीएस की कल संयुक्त कार्रवाई में गुजरात के राजकोट के रहने वाले अल्ताफ भाई कुरैशी को मुम्बई के पाय धुनी क्षेत्र स्थित पोपल वाडी से गिरफ्तार किया गया।

अरुण ने बताया कि अल्ताफ हवाला का अवैध कारोबार करता है और आरोप है कि उसने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के कहने पर आफताब के खाते में धन जमा कराया था।आफताब को यूूपी एटीएस, सेना की खुफिया इकाई और उत्तर प्रदेश की खुफिया इकाई के आपसी समन्वय से कल फैजाबाद से गिरफ्तार किया गया था।

अल्ताफ के पास से लगभग 70 लाख रुपए भी बरामद किए गए हैं, उससे पूछताछ की जा रही है, इस गिरफ्तारी से आईएसआई नेटवर्क की और परतें खुल सकती हैं। इस प्रकरण में अभी और गिरफ्तारियां संभव हैं। आरोप है कि आफताब नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के संपर्क में था और एटीएस को उसके खिलाफ पुख्ता सबूत मिले हैं, एटीएस ने एक अन्य संदिग्ध व्यक्ति को भी हिरासत में लिया है।

आफताब के पास से बरामद हुए फोन से आईएसआई नेटवर्क को लेकर और अधिक जानकारी मिलने की संभावना है, आफताब के बैंक खाते में जमा हुए पैसे के बारे में भी जानकारी एकत्र की जा रही है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने राज्य में आईएसआई से प्रशिक्षित आतंकवादियों द्वारा हमले करने की आशंका को लेकर चेतावनी जारी की थी। पुलिस के मुताबिक पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने कथित तौर पर प्रशिक्षित आतंकियों के समूह को फैजाबाद जिले के अयोध्या, वाराणसी, वृन्दावन और आगरा के ताजमहल जैसे धार्मिक एवं ऐतिहासिक स्थलों को निशाना बनाने के लिए कहा था।

एटीएस ने सभी जिला पुलिस कप्तानों को सतर्क कर दिया है. संभावित खतरे को लेकर रेलवे के पुलिस अधीक्षकों को भी सतर्क कर दिया गया है। एटीएस ने हाल ही में आईएसआईएस-खुरासान माड्यूल का पर्दाफाश किया था। पिछले महीने इसी माड्यूल से संबद्ध संदिग्ध आतंकवादी सैफुल्लाह लखनऊ में एक मुठभेड़ में मारा गया था।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top