केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा के लिए नामांकन भरा

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा के लिए नामांकन भराकेंद्रीय मंत्री डॉ हरदीप सिंह पुरी व उनके साथ हैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ (आईएएनएस)। उत्तरप्रदेश से राज्यसभा सीट की सदस्यता के लिए केंद्रीय मंत्री डॉ हरदीप सिंह पुरी ने बुधवार को नामांकन दाखिल किया। यह सीट गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के इस्तीफे की वजह से रिक्त हुई है।

इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा तथा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडे समेत कई मंत्री सांसद और विधायक मौजूद थे। सभी लोगों ने भाजपा मुख्यालय से पैदल ही विधानभवन के लिए प्रस्थान किया। केंद्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में अपना नामांकन दाखिल किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा प्रदेश है। नगरीय निकायों की दृष्टि से भी सबसे बड़ा प्रदेश है। हरदीप सिंह पुरी को उत्तरप्रदेश से राज्यसभा सदस्य बनाए जाने से राज्य को लाभ मिलेगा।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के इस्तीफे की वजह से यह सीट रिक्त हुई है। पूर्व रक्षा मंत्री पर्किर ने गोवा का मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्यसभा की सदस्यता छोड़ दी थी। हालांकि उनका कार्यकाल 25 नवम्बर 2020 तक था।

राज्यसभा उपचुनाव के लिए नामांकन के बाद केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का आभार जताते हुए विकास का एजेंडा पूरा करने की बात कही।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हरदीप पुरी के नामांकन के अवसर पर संवाददाताओं से कहा कि पुरी एक सक्षम व्यक्ति हैं और प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर उनका लम्बा अनुभव है।

हरदीप पुरी (65 वर्ष) ने कहा कि राज्यसभा में उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व करके उन्हें खुशी होगी। वह इसे एक जिम्मेदारी के तौर पर ले रहे हैं और उसका निर्वाह करेंगे। वह पहले मंत्री पद मिलने और अब राज्यसभा का प्रत्याशी बनाये जाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को धन्यवाद देते हैं।

केंद्रीय मंत्री डॉ हरदीप सिंह पुरी व उनके साथ हैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

राजनयिक से राजनेता बने हरदीप पुरी को पिछले साल सितम्बर में केंद्रीय आवास एवं नगर विकास मंत्री बनाया गया था। चूंकि वह किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं, लिहाजा पद की शपथ लेने के बाद छह माह के अंदर उन्हें संसद के किसी सदन की सदस्यता लेना जरूरी है।

वर्ष 1974 बैच के आईएफएस अधिकारी रहे हरदीप पुरी संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि के रूप में सेवाएं दे चुके हैं।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 312 विधायकों की मौजूदगी के मद्देनजर हरदीप पुरी का इस राज्यसभा सीट पर निर्वाचन तय माना जा रहा है।

निर्वाचन आयोग ने पिछले शुक्रवार को राज्यसभा उपचुनाव की घोषणा की थी। इसके लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख पांच जनवरी है। उसके अगले दिन नामांकन पत्रों की जांच होगी, जबकि आठ जनवरी तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। मतदान और मतगणना 16 जनवरी को होगी।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top