प्रधानमंत्री के भीम एप से धोखाधड़ी कर 45 लाख की ठगी  

प्रधानमंत्री के भीम एप से धोखाधड़ी कर 45 लाख की ठगी  पकड़े गए जालसाज 

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया को आगे बढ़ाने के लिए आम लोगों के लिए भीम नाम से एक एप की शुरूआत की थी, जिसे रुपए के लेनदेन के लिए सबसे सुरक्षित एप माना जाता था, लेकिन उत्तर प्रदेश की राजधानी में कुछ जालसाजों ने भीम एप सहित कई अन्य दूसरे ऑन लाइन एप में सेंध लगाकर लाखों रुपए की जालसाजी की। काफी दिनों से एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) को इसकी शिकायत मिल रही थी। इस शिकायत के आधार पर मामले की जांच कर रही एसटीएफ टीम ने शुक्रवार को एक बैंक कर्मचारी सहित दो अभियुक्तों को धर-दबोचा।

ये भी पढ़ें- शहरी गरीबों को मुफ्त बिजली देने की सीएम ने शुरूआत की

सएसपी एसटीएफ अमित पाठक के मुताबिक, कई दिनों से एक्सिस बैंक खातों से ऑन लाइन धोखाधड़ी की शिकायत मिल रही थी। जांच करने पर पता चला कि जालसाजों ने भीम एप सहित अन्य दूसरे एप के माध्यम से बैंक ग्राहकों के खातों से 45 लाख रुपए की ठगी की है। इस बीच जांच के दौरान एसटीएफ को लीड मिली की जालसाजी करने वाले आरोपी गोमतीनगर में बैठकर ग्राहकों से आन लाइन एप से ठगी कर रहे हैं। यह सूचना मिलने पर टीम ने दो आरोपियों को गोमतीनगर के दयाल पैराडाइज चौराहा से मौके से धर-दबोचा। गिरफ्तार अभियुक्त विजय पाण्डेय उर्फ विक्की पुत्र श्री योगेन्द्र पाण्डेय निवासी ग्राम सुहिला थाना कम्पियरगंज जिला गोरखपुर और धर्मेन्द्र पाठक उर्फ डब्लू पुत्र स्व0 वैजनाथ पाठक निवासी थाना सैदपुर जिला गाजीपुर है।

ये भी पढ़ें- ‘पिछली सरकारों के खराब कानून-व्यवस्था से प्रदेश विकास की दौड़ में पिछड़ा’

आरोपियों के पास से दो मोबाइल फोन और तीन सिम कार्ड बरामद हुए है। दोनों आरोपियों के खिलाफ विभिन्न जनपदों में आईटी एक्ट सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज था। उधर मामले की गंभीरता को देखते हुए एसटीएफ ने मामले की जांच साइबर एक्सपर्ट अपर पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह को दी गई थी। त्रिवेणी सिंह की मानें तो एक्सिस बैक के विभिन्न खातों से यह गिरोह फर्जी तरीके से भीम एप व अन्य यूपीआई एप के माध्यम से धोखाधड़ी कर धनराशि अपने खाते में ट्रांसफर कर ली गयी थी। वहीं पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि, भीम एप व अन्य यूपीआई एप के माध्यम से एक्सिस बैंक खाते से धोखाधड़ी कर लाखों रुपए ट्रांसफर किए थे। साथ ही इस गिरोह का नेटवर्क मुम्बई, दिल्ली, नोयडा, गोरखपुर, कुशीनगर व प्रदेश के अन्य शहरों तक फैला हुआ था। वहीं आरोपी विजय पाण्डेय गाजीपुर जिले में एक्सिस बैक में कस्टमर सपोर्ट आफिसर के रूप में नियुक्त रह चुका है, जिसके द्वारा विभिन्न बैंक खातों की जानाकारी उसे पहले से थी, इसका इस्तेमाल वह आम ग्राहकों के खातों से रुपए निकाल अपने खाते में ट्रांसफर करने का कार्य कर रहे थे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top