शौच के लिए गये वकील को बदमाशों ने मारी तीन गोलियां

शौच के लिए गये वकील को बदमाशों ने मारी तीन गोलियांमृतक वकील श्रीकांत वर्मा

गॉंव कनेक्शन संवाददाता

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले कई दिनों से अपराधियों के हौसले इस कदर बुलंद है कि वो अब किसी को भी जान से मारने से पीछे नहीं हटते | ताजा मामला शनिवार सुबह गोसाईगंज क्षेत्र में देखने को मिला। जहां सुबह शौच के लिए गए एक वकील की कुछ अज्ञात हमलवरों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

गोली लगने से वकील मौके पर ही गिर गया, इस वारदात की सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस को दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने वकील को गंभीर हालत में अस्पताल पहुँचाया , जहां डॉक्टरों ने वकील को मृत घोषित कर दिया।

ये भी पढ़े- ये हैं भारत के वे 11 कुख्यात नाम जिन्हें सुन लोगों की रूह कांप जाती थी

वहीं वकील की हत्या की सूचना जैसे ही अन्य वकीलों को मिली तो, वह मौके पर पहुंच गए और पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। गोसाईगंज के दोहरामऊ गांव में रहने वाले वकील श्रीकांत वर्मा (40) का शव गांव के बाहर खेत में खून से सना हुआ मिला। वकील के शरीर पर तीन गोलियों के निशान मिले। वकील को एक गोली आंख में लगी , दूसरी गर्दन और तीसरी गोली पीठ पर मारी गई।

हत्या की इस सनसनीखेज वारदात के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए। उन्होंने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी, बवाल की सूचना मिलते ही मोहनलालगंज और निगोहां, नागरम की पुलिस को मौके पर बुला लिया गया।

ये भी पढ़े - अद्भुत : 5 हजार लोगों के इस गांव में सबका जन्म 1 जनवरी को हुआ

ग्रामीण हत्यारों को जल्द पकड़ने की मांग कर रहे थे। फिलहाल हत्या की वजह अभी स्पष्ट नहीं हो सकी है। वहीं एएसपी ग्रामीण के मुताबिक, श्रीकांत शर्मा के घरवालों से पूछताछ जारी है। फिलहाल आरोपियों की तलाश में टीमें बना दी गई है। हद तो तब हो गयी जब पुलिस ने मृतक का शव सील करवाकर टेम्पो से पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया ,पुलिस की इस संवेदनहीनता ने एक बार फिर सरकारी तंत्र पर ऊँगली उठा दी |

इस मामले में एक पूर्व आईपीएस के मुताबिक, टैम्पो में शव को ले जाना प्रतिबंधित है। इसके बाद भी पुलिस लापरवाही करती दिख जाती है, जो पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाता है। जबकि शव को ले जाने का नियम यह है कि, इसमें सरकारी अस्पताल के एम्बुलेंस से ही शव को ले जाने का नियम है।

Share it
Share it
Share it
Top