औरैया में पुराने फलों के बागों का जल्द ही होगा जीर्णोद्धार

Ishtyak KhanIshtyak Khan   22 Sep 2017 12:23 PM GMT

औरैया में पुराने फलों के बागों का जल्द ही होगा जीर्णोद्धारकृषक मेले में भाग लेते किसान एवं अधिकारी। 

औरैया। औद्यानिक कृषक मेले में आए जिले के किसानों को बागवानी और मिर्च, मसाला के लिए प्रोत्साहित किया गया, जिसमें किसानों को बताया गया कि जिनके पास पुराने बाग है और पैदावार कम हो रही है वह विभाग को अवगत करा दें। जिससे पुरानों बागो का जीर्णोद्धार किया जा सके।

जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर पश्चिम दिशा में बने कृषि विज्ञान केंद्र परवाहा पर औद्यानिक कृषक मेले का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर विधायक ने किया। मेले में जिला उद्यान अधिकारी राजेंद्र कुमार ने किसानों को बताया कि जिले में बागवानी का लक्ष्य बढ़ाया गया है। जिन किसानों को किन्नू और अमरूद का बाग लगाना हो वह तत्काल उद्यान विभाग में अपना आवेदन करें।

ये भी पढ़े- फल और सब्जियों से किसान काट रहे मुनाफे की फसल, यूपी में तेजी से बढ़ा बागवानी उत्पादन

पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किसानों का चयन किया जाएगा। मेले में औद्यानिक हार्टीकल्चर, सब्जी उत्पादन, मसाला, मिर्च, लहसुन, प्याज बागवानी संबंधी जानकारी किसानों को दी गई। उद्यान अधिकारी डॉ. आईपी सिंह ने बताया, “जिन पुराने बागों में फलों का उत्पादन कम हो गया है। उनका विभाग द्वारा जीर्णोद्धार कराया जाएगा। पुराने पौधों की शाखाऐं काट कर उन पर नीला थोथा, चूने का लेप लगाकर छोड़ दिया जाएगा। फरवरी माह तक पौधों में नये किल्ले आने शुरू हो जाऐंगे। एक साल के अंदर पौधा पूरा ग्रोथ कर लेगा और फल उत्पादन की क्षमता बढ़ जाएगी। जीर्णोद्धार होने के बाद बाग में फलों के उत्पादन की क्षमता 10 साल तक बढ़ जाएगी।”

अमरूद, किन्नू पर मिलेगा अनुदान

डॉ. आईपी सिंह ने बताया कि अमरूद और किन्नू के लिए किसानों को अनुदान मिलेगा। पहले किसानों को पैसा स्वयं लगाना होगा। इसके बाद उसका बिल बाउचर लगाने पर उनके खातों में सब्सिडी भेज दी जाएगी। अमरूद और किन्नो की अच्छे किस्म की पौध किसानों को जिले में उपलब्ध कराई जाएगी।

ये भी पढ़े- फल और सब्जियों को विदेशों में निर्यात कर कमाएं मोटा मुनाफ़ा, पढ़िए कहां है किसकी डिमांड

जिले में पीएमकेएसवाई को मिला 293 हेक्टेयर का लक्ष्य

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत जिले को 293 हेक्टेयर का लक्ष्य मिला हुआ है। जिसमें ड्रिप और स्प्रिंकलर की स्थापना किसानों के खेतों पर कराई जाएगी। इसमें किसान को पहले अपना पैसा लगाना होगा बाद में सब्सिडी मिलेगी। सामान्य किसान को 80 तो लघु सीमांत किसान को 90 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाएगी।

ये भी पढ़े- उत्तर प्रदेश के खेतों में जल्द ही उगाया जाएगा ड्रैगन फ्रूट , 200 रुपए तक बिकता है एक फल

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top