यूपी में अलग अलग जगहों पर एक और दो रुपए के सिक्के लेने से व्यापारियों ने किया इंकार  

यूपी में अलग अलग जगहों पर एक और दो रुपए के सिक्के लेने से व्यापारियों ने किया इंकार   प्रतीकात्मक फ़ोटो 

ओपी सिंह/ राजीव शुक्ला

स्वंय प्रोजेक्ट डेस्क/ स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

इलाहाबाद/कानपुर। बिना किसी सरकारी नोटिफिकेशन के ही जिले के बड़े व्यापारी एक और दो रुपए के सिक्के को चलन से बाहर कर रहे है। बड़े व्यापारियों के इंकार की वजह से छोटे व्यापारी और दुकानदार भी सिक्के को लेने से मना करने लगे हैं जिससे शहर से लेकर गाँवो तक लोगों की परेशानी बढ़ी हुई है। इसकी भनक लगते ही घरों में रखे सिक्के लोग निकालने लगे हैं।

सिक्कों को प्रचलन से बाहर करने की बात पर नैनी में जनरल सामानों के दुकान संचालक इमरान (42) का कहना है, कि जब बड़े व्यापारी नहीं ले रहे हैं तो हम लेकर क्या करेंगे। करछना से बेटी की शादी का सामान खरीदने आयी सुमित्रा यादव (56) का कहना है कि साथ में ऐसे 200 रुपए के सिक्के साथ लायी हूं जो कोई दुकानदार नहीं ले रहा है।

ये भी पढ़ें- एक साल से खराब हैंडपंप, अब तक नहीं सुधरा

वहीं जब हमने मुख्य प्रबन्धक, स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया इलाहाबाद (अरुण श्रीवास्तव) से इस मसले पर बात की तो उनका कहना था कि सिक्कों को लेने से क्यों इंकार किया जा रहा है। ऐसा कोई आदेश नही जारी हुआ है। व्यापारी की जगह यदि कोई बैंक ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वहीं दूसरी तरफ कानपुर में कई जगहों पर छोटे दुकानदारों द्वारा एक और दो रुपए के सिक्के लेने से इनकार किया जा रहा है। दुकानदारों द्वारा सिक्के नहीं लेने से लोगों के सामने परेशानी खड़ी हो गई है। ऐसी स्थिति सिर्फ कानपुर की ही नहीं बल्कि कन्नौज और कानपूर देहात समेत कई जिलों की है जहाँ छोटे दुकानदारों ने छोटे सिक्कों में व्यापार करना बंद कर दिया है।

ये भी पढ़ें- ‘अपनी जीवन की डोर किसी शराबी के साथ नहीं बांध सकती’

कानपूर नगर के ब्लाक बिधनू के गाँव ओरियारा के किसान राम सिंह (48) बताते हैं कि हम तो रोज अपने खेत की सब्जी बेचने मंडी जाते हैं। अब हमसे कोई भी दुकानदार अगर दो या एक के सिक्के नहीं लेगा तो हम क्यों लेंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top