वाहन चेकिंग में एक करोड़ के पुराने नोट बरामद

वाहन चेकिंग में एक करोड़ के पुराने नोट बरामदजब्त किए गए पुराने नोट, साथ में गिरफ्तार आरोपी।

गॉंव कनेक्शन संवाददाता

लखनऊ। कमीशन पर पुराने नोट के बदले नए नोट बदलने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। अब खेल एनआरआई कोटे के नाम पर किया जा रहा है। ताजा मामला राजधानी के गाजीपुर थाना क्षेत्र का है, जहां शनिवार को वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस ने एक करोड़ के पुराने नोट के साथ तीन लोगों को पकड़ा है। सभी आरोपी एक कार में रुपये रखकर जा रहे थे। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि, उन्हें एक करोड़ रुपये के पुराने नोट बदलने के एवज में कमीशन मिलना था, जिसके चलते वह इस काम को अंजाम दे रहे थे। वहीं गाजीपुर पुलिस ने बताया कि, ये रुपए माइक्रोमैक्स के यूपी फ्रेंचाइजी हेड योगेश अग्रवाल के हैं, जिनको एनआरआई कोटे के जरिये घालमेल करने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें- कांग्रेस की बुकलेट में कश्मीर बना भारत अधिकृत कश्मीर, भाजपा ने घेरा

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि, शनिवार सुबह गाजीपुर पुलिस को सूचना मिली कि एक कार से 3लोग पुराने नोट के साथ महानगर की ओर जा रहे हैं। इस सूचना पर गाजीपुर पुलिस ने चेकिंग लगा कर वाहनों की तलाशी शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस ने एक कार को रोका, जिसमें तीन लोग सवार थे। पुलिस ने कार की चेकिंग शुरू की तो सभी लोग घबरा गये। जिसे देखकर पुलिस का शक यकिन में बदल गया। पुलिस पूछताछ में कार सवार लोगों ने बताया कि, उन्हें मुन्ना नाम के शख्स के माध्यम से पुराने नोट बदलने थे।

ये भी पढ़ें- एक बंदूक से खतरे में पड़ी मरीजों की जान

कार मालिक विकास चंद्रा ने पुलिस को बताया कि, एक करोड़ रुपए बदलने में उन्हें एक प्रतिशत कमीशन मिलना था। जबकि इससे पहले बैंकों में सक्रिय दलालों के जरिए पहले भी लाखों रुपए बदल चुके हैं। आरोपियों ने आगे बताया कि, सभी पुराने नोट माइक्रोमैक्स यूपी के फ्रेंचाइजी हेड योगेश अग्रवाल का है। इनकी हजरतगंज स्थित श्रीराम टॉवर में मोबाइल की दुकान है। वहीं पकड़ गए तीनों लोग अजय कुमार, विकास चंद्रा और विपिन मिश्रा से पुलिस पूछताछ कर रही है। पुलिस का मानना है कि, शायद इन आरोपियों के गिरफ्त में आने से बहुत बड़े नोट बदली गिरोह का भी खुलासा हो सकता है। वहीं दूसरी ओर पुलिस आरोपियों से थाने में पूछताछ कर रही थी, जबकि हरदोई से एक भाजपा विधायक इन लोगों की पैरवी करने में बड़े अधिकारियों से जुटे थे। हालांकि पुलिस ने विधायक के नाम का खुलासा नहीं किया, जो आरोपियों की पैरवी कर रहे थे

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top