उत्तर प्रदेश

विपक्ष को रास नहीं आया योगी का एक महीना

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 14 साल बाद सत्ता में वापसी करने वाली बीजेपी सरकार 19 अप्रैल को एक महीना पूरा करने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में इस सरकार ने धमाकेदार शुरुआत की है।

योगी सरकार के एक महीने के कार्यकाल पर गांव कनेक्शन के सर्वे में लोगों ने योगी के फैसले को सराहा है। गांव से लेकर शहर तक लोगों को योगी सरकार के कार्यशैली और उनकी ओर से किए गए काम पसंद आए हैं लेकिन उत्तर प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टियों समाजवादी पार्टी और कांग्रेस को योगी सरकार के फैसले रास नहीं आए हैं। उन्होंने योगी सरकार के एक महीने के कार्यकाल को जनता की कसौटी पर फेल बताया है।

पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार समाजवादी विकास कार्यों को अपना बताकर जनता को बहका रही है। प्रदेश में बिजली पहले से ही शहरी क्षेत्रों में 22 से 24 घंटे और ग्रामीण इलाकों में 16 से 18 घंटे आपूर्ति हो रही है। लेकिन योगी सरकार इसपर घोषणा करके अपना बता रही है। जितनी बिजली पहले से ही मिल रही है, उतने ही की घोषणा फिर से करना निरर्थक है। जनता की अपेक्षा यथास्थिति की नहीं, इससे अधिक आपूर्ति की है। वहीं समाजवादी सरकार ने अपने कार्यकाल में किसानों को राहत दी थी वहीं बीजेपी सरकार ने किसानों की कर्जमाफी की आधी-अधूरी घोषणा की है। भाजपा सरकार की योजनाओं में किसान-गांव के लिए स्थान नहीं।

समाजवादी पार्टी के प्रमुख ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। कार में जलाकर हत्या हो रही हैं दिनदहाड़े व्यापारी लूट रहे हैं। महिलाएं असुरक्षित हैं। ऐसे लोग जो जानवर ले जाने पर निर्दोष लोगों की हत्या कर देते हैं वे जानवर से कम नहीं है। ऐसी बीजेपी सरकार की पोल जल्द ही जनता के बीच खुलेगी। अखिलेश यादव ने कहा कि योगी सरकार अभी कोई ठोस निर्णय नहीं बल्कि हवा-हवाई घोषणा करने में लगी हुई है।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के एक महीने के कार्यकाल पर कांग्रेस पार्टी ने अभी कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है। सरकार के एक महीने के कामकाज पर जनता क्या सोचती है इस पर कराए गए गांव कनेक्शन के सर्वे में योगी सरकार की लोकप्रियता पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सत्यदेव त्रिपाठी ने कहा कि योगी सरकार 19 अप्रैल को एक महीना पूरे करने जा रही है। किसी भी सरकार का आंकलन करने के लिए एक महीने का समय बहुत कम होता है।

कांग्रेस पार्टी ने तय है कि सरकार के 90 दिन के कार्यकाल के बाद इस सरकार के कामकाज पर एक रिपोर्ट जारी की जाएगी। हालांकि अभी तक सरकार ने जिस अंदाज में कामकाज शुरू किया है उसमें प्रचार ज्यादा और काम कम है। बीजेपी के कार्यकर्ता प्रदेश में कई जगह उत्पात मचा रहे हैं। ऐसे में योगी सरकार की शुरूआत बहुत अच्छी नहीं कही जा सकती है। आने वाले दिनों में पता चलेगा कि सरकार किस दिशा में जा रही है।