विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन पीएसी ने सकुशल सम्पन्न कराया : योगी

विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन पीएसी ने सकुशल सम्पन्न कराया : योगीविश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन पीएसी ने सकुशल सम्पन्न कराया : योगी

लखनऊ। ‘’विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन कुम्भ मेला पीएसी की देखरेख और उसके कार्यशैली के चलते सकुशल सुरक्षित पूर्ण कराया जा सका है।‘’ अपनी तारिफ उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से सुनकर पीएसी जवानों ने तालियों की गड़गड़हाट से उनका अभिवादन किया।

राजधानी के महानगर स्थित 35वीं पीएसी वाहिनी के मुख्यालय में आयोजित पीएसी स्थापना दिवस कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ शामिल हुए। पीएसी स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश पीएसी की तारिफ करते हुए कहा कि पीएसी का प्रदर्शन हमेशा से सराहनीय रहा है। उन्होंने कहा कि, पीएसी की तैनाती अक्सर त्यौहारों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के अवसरों पर की जाती रही है, जिसे पीएसी के जवानों ने सकुशल सम्पन्न कराया है।

ये भी पढ़ें- यूपी: 11 साल बाद पीएसी दिवस पर पहुंचे मुख्यमंत्री, जवानों को दी शुभकामनाएं

कार्यक्रम में सीएम ने कहा कि, न्यायालयों में सुरक्षा प्रदान करने को पीएसी का अहम योगदान रहा हैं और इसके लिये पीएसी की कार्यप्रणाली काबिले-तारिफ है। पीएसी ने जहां उपद्रवियों को रोकने में सफलता पाई है, तो वहीं इस बल का उपयोग जनता की रक्षा के लिये होता है। पीएसी का प्रदर्शन सदैव से ही बेहतर रहा है।

स्थापना दिवस कार्यक्रम में पहुंचें मुख्यमंत्री ने पीएसी ग्राउंड में गार्ड आफ आनर का निरीक्षण किया। साथ ही पीएसी जवानों ने मुख्यमंत्री को सलामी दी। एसएसबी व सीआरपीएफ जवानों की बैंड टीम ने मुख्यमंत्री का स्वागत आगमन धुन से किया। पीएसी स्थापना दिवस के अवसर पर सीएम योगी के साथ प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, उप्र के पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह मौजुद रहे। अपर पुलिस महानिदेशक पीएसी राजकुमार विश्वकर्मा ने कहा कि, पीएसी स्थापना दिवस के अवसर पर आये हुये गणमान्य अतिथियों का स्वागत है। उन्होंने कहा कि, प्रदेश के मुख्यमंत्री के आने पर हम बेहद खुश है। पीएसी की स्थापना समय से ही बेहतर कार्य निष्पादन के लिये इसकी पहचान बनी है। पीएसी जवानों ने बिगुल, बैंड और कमांडो प्रशिक्षण का मुख्यमंत्री के सम्मुख प्रदर्शन किया। प्रदर्शन दौरान रस्सी पकड़, कूद, गोला फेंकने का बेहतरीन कौशल दिखाया गया।

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज उन्नाव में करेंगे ‘सौभाग्य योजना’ का शुभारंभ

कुर्सी से लेकर तोलियां तक भगवा

पीएसी के स्थापना दिवस कार्यक्रम में पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ के बैठने के लिए अधिकारियों ने लकड़ी की भगवा रंग की कुर्सी तक का इंतजाम करवा दिया। इतना ही नहीं कुर्सी के ऊपर भगवा तौलिया डाल दिया गया।

स्थापना दिवस पर 11 साल बाद पहुंचा कोई सीएम

पीएसी स्थापना दिवस के कार्य़क्रम में 11 वर्षों के बाद कोई मुख्यमंत्री भाग लेने आने के कारण जवानों के अंदर एक अलग हौसला देखने को मिला। पिछले 11 वर्षों से पीएसी स्थापना दिवस लगातार हो रहा है और हर बार मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया जाता रहा है, लेकिन इस बार मुख्यमंत्री से पीएसी अधिकारियों ने मुलाकात की थी और उनके आने तक बहुत कुछ संशय भी बना हुआ था, लेकिन एक दिन पहले मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम की स्वीकृति दी और वहां पहुंच गए।

पीएसी से आधुनिक संसाधनों से होगी लैस

स्थापना दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में आयोजित प्रदर्शनी का भी निरीक्षण किया। उन्होंने पीएसी के साजो सामान आदि को देखा और पीएसी को आधुनिक संसाधनों से लैस करने की भी बात कही।

जवानों ने दिखाया करतब

इस अवसर पर पीएसी कैंपस में जवानों की ओर से हैरतंगेज करतब भी प्रदर्शित कर सीएम योगी आदित्यनाथ की वाह-वाही लूटी। पीएसी के बैंड और कमांडोज के जांबाजी भरे प्रदर्शन भी देख सीएम ने पीएसी के जवानों के जौहर की तारीफ की स्थापना दिवस पर पीएसी के जवानों की कुश्ती का भी आयोजन किया गया। पीएसी के पहलवानों ने अलग-अलग कैटगरी में अपने विरोधी पहलवानों को पटखनी देने की जोर-आजमाइश की।

पीएसी में 18,000 जवानों की होगी भर्ती

मुख्यमंत्री ने कहा कि, पीएसी देश के श्रेष्ठ सुरक्षा बल में से एक है। इसके जवानों ने समय-समय प्रदेश तथा देश को बेहद मुश्किल से उबारा है। उन्होंने कहा कि, हम जल्दी ही पीएसी में 18,000 जवानों की भर्ती करेंगे। इसके साथ ही इस बल को और मजबूत बनायेंगे। वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि, लखनऊ मेट्रो की सुरक्षा में भी पीएसी को उसके बेहतरीन काम की वजह से लगाया गया। पीएसी की टीमें लगातार उत्कृष्ट कार्य कर रही है।

पुरस्कृत हुए यह जवान

सर्वोत्तम प्लाटून चल वैजयंती 42वीं वाहिनी पीएसी इलाहाबाद को मिला। प्लाटून कमांडर रामदत्त यादव ने पुरस्कार प्राप्त किया। सर्वोत्तम खिलाड़ी की ट्रॉफी 12वीं वाहिनी पीएसी फतेहपुर को दिया गया। उत्तम डिमांस्ट्रेशन चल वैजयंती 6वीं वाहिनी पीएसी आरआरएफ मेरठ को दिया गया। सर्वोत्तम डिमांस्ट्रेशन चल वैजयंती 32वी वाहिनी पीएसी को दिया गया। श्रेष्ठ कार्य ट्रॉफी 32वीं वाहिनी पीएसी को दिया गया। सर्वश्रेष्ठ कार्य ट्रॉफी 6वीं वाहिनी पीएसी आरआरएफ मेरठ को दिया गया। उत्तम वाहिनी चल वैजयंती 12वीं वाहिनी पीएसी फतेहपुर को दिया गया। अति उत्तम वाहिनी चल वैजयंती 26वीं वाहिनी पीएसी गोरखपुर को दिया गया। सर्वोत्त्म वाहिनी चल वैजयंती 43वीं वाहिनी पीएसी एटा को दिया गया।

ये भी पढ़ें- योगी सरकार में आईएएस अफसर हुए ‘शाकाहार’

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top