#Live सुनिए शाहजहांपुर की किसान रैली में क्या बोल रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

अविश्वास प्रस्ताव जीतने के बाद यूपी के शाहजहांपुर में पीएम मोदी किसानों को संबोधित कर रहे हैं।

#Live सुनिए शाहजहांपुर की किसान रैली में क्या बोल रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाहजहांपुर में किसान महारैली को संबोधित करने पहुंच गए हैं। शाहजहांपुर के रोजा में होने वाली इस रैली को सफल बनाने के लिए बीजेपी के नेता पूरी तैयारी के साथ जुटे हुए हैं। बीजेपी के मुताबिक 9 जिले के करीब सवा लाख से ज्यादा किसान प्रधानमंत्री की इस रैली में हिस्सा लेने पहुंचे हैं।

मंच से मोदी ने कहा, इसी प्रकार का प्यार और उत्साह देश के कोने-कोने में मुझे देखने को मिल रहा है। पिछले दिनों यूपी, पंजाब, राजस्थान, पश्चिम बंगाम में किसानों के बीच जाने का अवसर मिला। जहां भी गया, वहां किसानों ने जो आशीर्वाद दिया, उससे मैं अभिभूत हूं। चीनी उत्पादन में वृद्धि को देखते हुए यह मूल्य तय किया गया है। गन्ना के प्रति कुंतल की लागत 155 रुपये आंकी जाती है। अब जो मूल्य तय किया गया है, वह लागत का लगभग दोगुना हो रहा है। पहले पैसे चीनी मिल को दिए जाते थे। हमने रुपये सीधे किसानों के खाते में जमा किए। किसानों को उनका हक दिलाया।इन्हीं प्रयासों का असर है कि पुराना बकाया निरंतर कम होता जा रहा है। बकाए के भुगतान की गति और तेज होने वाली है।

मोदी ने आगे कहा,15 वर्ष पूर्व अटल जी की सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया था। उसके बाद आई सरकार ने 10 वर्ष तक कछुए की चाल पर काम किया। अगर काम किया होता तो अतिरिक्त चीनी पैदा होने से किसानों का पैसा नहीं फंसता। चीनी के आयत पर 100% शुल्क लगाया गया है, 20 लाख टन चीनी निर्यात करने की अनुमति दे दी गयी है और चीनी के लिए एक न्यूनतम मूल्य तय किया गया है ताकि चीनी मिल नुकसान का बहाना ना बना पाएं। प्रति क्विंटल पर 5.50 रुपये की अतिरिक्त मदद सीधे किसानों के खाते में जमा की जा रही है।




किसान रैली में ग्राम पंचायत, ब्लॉक स्तर से लेकर तहसील स्तर तक के किसान पहुंचे हुए हैं। रोजा के रेलवे मैदान में किसान कल्याण रैली में भारी भीड़ उमड़ रही है। लोग बस , ट्रैक्टर ट्राली और वाहनों से रैली स्थल पहुंच रहे हैं।

रैली को संबोधित करते हुए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, पिछले 4 साल के दौरान अनेक योजनाएं देश के हित के लिए लागू हुईं। ये योजनाएं बिना किसी मजहब, जाति और धर्म को देखते हुए चल रही हैं।

किसानों को उपज का डेढ़ गुना तक दाम दिलाने के लिए क्रांतिकारी कदम आगे बढ़ाए गए हैं। 2 करोड़ 33 लाख किसानों के खाते में एक लाख करोड़ रुपये की राशि डीबीटी के माध्यम से भेजने का काम किया गया है।पूर्ववर्ती सरकार ने अपने पहले वर्ष के कार्यकाल में बिचौलियों के जरिए 7 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा था। हमने बिचौलियों को हटकार किसानों से सीधे उपज खरीदकर आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान किया। इस वर्ष 53 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद सीधे किसानों से की गई।


योगी ने कहा, इस वर्ष हमारी सरकार ने केंद्र सरकार के सहयोग और प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में 34 हजार करोड़ रुपये के गन्ना मूल्य का भुगतान कर प्रदेश के किसानों के घरों में खुशहाली लाने का काम किया है।



Share it
Top