मध्य यूपी में सोशल मीडिया के जरिये जातीय हिंसा भड़काने का प्रयास 

मध्य यूपी में सोशल मीडिया के जरिये जातीय हिंसा भड़काने का प्रयास प्रतीकात्मक फ़ोटो 

लखनऊ। पश्चिम यूपी के सहारनपुर और अन्य जनपदों में जातीय हिंसा के बाद प्रदेश में मध्य यूपी में भी अराजक तत्वों ने सोशल मीडिया पर अफवाह फैला जातीय हिंसा फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर कुछ दिनों से रायबरेली में पांच लोगों की हत्या को जातीय रंग देकर एक समुदाय को दूसरे समुदाय से भिड़ाने के प्रयास में फेसबुक और वाट्सएप पर गलत खबर फैला माहौल खराब करने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि पुलिस प्रशासन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पूरी स्थिति पर नजर बनाएं हुए है।

ये भी पढ़ें- दरोगा की हत्या ने खड़े किये कई सवाल, क्या अपराधियों को रासुका का भी डर नहीं ?

मध्य यूपी में राजधानी से सटे रायबरेली जनपद में बीते दिनों जमीनी विवाद में दो पक्षों में विवाद हो गया था, जिसमें एक पक्ष के तीन लोगों सहित पांच को जिंदा जलाकर मौत के घाट के उतार दिया था। इस मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजकर माहौल नियंत्रित करने का प्रयास किया था, लेकिन इस घटना को लेकर अराजकतत्वों ने सोशल मीडिया पर गलत अफवाह उड़ा रायबरेली से सटे प्रतापगढ़, इलाहाबाद, उन्नाव सहित अन्य जनपदों में माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें- जीएसटी हुआ फिट तो पीएम मोदी होंगे हिट

सोशल मीडिया के फेसबुक, ट्वीटर और वाट्सएप पर एक समुदाय के खिलाफ यह अराजकतत्व न्यूज पोर्टल के नाम से गलत खबर चला बरगलाने का प्रयास कर रहे है, जिसे लेकर दूसरे समुदाय के खिलाफ नफरत पैदा हो रही है। सोशल मीडिया पर अराजकतत्व सीधे-सीधे ब्राह्मण को जागने की बात कर रहे हैं और खबर चला रहे है कि, इसका बदला लेने की जरुरत है, क्योंकि बदला नहीं लिया तो हमारा वजूद खत्म हो जायेगा। वहीं उंचाहार में हुए पांच लोगों के हत्याकांड में पूरे क्षेत्र में माहौल अब भी तनावपूर्ण है, जिसे देखते हुए भारी सुरक्षा बल क्षेत्र में तैनात कर रखा है। वहीं इस संबंध में आईजी रेंज लखनऊ जय नारायण सिंह ने बताया कि, पूरे घटनाक्रम पर नजर रखी जा रही है और किसी को भी माहौल खराब करने की इजाजत नहीं दी जायेगी। मामले की गंभीरता को देखते हुए हर चीज पर नजर रखी जा रही है, चाहे वह सोशल मीडिया प्लेटफार्म ही क्यों न हो। साथ ही आईजी ने आगे बताया कि, अराजकतत्वों को चिन्हित कर उन्हें भी गिरफ्तार सलाखों के पीछे भेजा जायेगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top