मनचाहे वेतन पर सरकारी अस्पतालों में होगी निजी डाॅक्टरों की भर्ती 

मनचाहे वेतन पर सरकारी अस्पतालों में होगी निजी डाॅक्टरों की भर्ती निजी डॉक्टरों को सरकारी अस्पतालों में काम करने के लिए मिलेगा मनचाहा वेतन। 

लखनऊ (भाषा)। उप्र सरकार अब निजी अस्पतालों में काम करने वाले विशेषज्ञ डाॅक्टरों को उनके मनचाहे वेतन पर सरकारी अस्पतालों में काम करने का अवसर देगी। इसके लिये स्वास्थ्य विभाग ने एक भर्ती एजेंसी को चुना है जो प्रदेश में विशेषज्ञ डाॅक्टरों को भर्ती करेगी।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के महाप्रबंधक मानव संसाधन संदीप सक्सेना ने बताया कि प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में विशेषज्ञ डाक्टरों की काफी कमी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को अधिक बेहतर एवं सुलभ रुप प्रदान करने हेतु 400 से अधिक एनेस्थीसिया, स्त्री-रोग विशेषज्ञ तथा बाल-रोग विशेषज्ञ के रिक्त पदो को खुले बाजार में प्रचलित बिडिंग मॉडल व्यवस्था के माध्यम से भरे जाने का निर्णय किया है।

उन्होंने बताया कि निजी अस्पताल में कार्यरत विशेषज्ञ चिकित्सक यदि उत्तर प्रदेश के किसी अस्पताल में सेवायें देना चाहते है तो विभाग की वेबसाइट पर जाये और वहां अपने पसंद का जिला एवं अस्पताल चुने। फिर इच्छित वेतन आॅनलाइन भरे। अगर आपका वेतन उस विभाग के लिये भरे गये अन्य विशेषज्ञ डाॅक्टरों से कम होगा तो आपको तुरंत चुन लिया जायेगा। अगर आप उस अस्पताल और जिले के लिये बिडिंग करने वाले इकलौते डाॅक्टर होंगे तो आपको आपके बताये गये वेतन पर चुन लिया जायेगा।

उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था के अन्तर्गत विशेषज्ञ अपनी पसंद की फैसिलिटी हेतु मनचाहे परामर्श शुल्क के विकल्प के साथ ऑनलाइनपोर्टल के माध्यम से बिडिंग कर सकते हैं। चिकित्सक विस्तृत जानकारी के लिये हेल्पलाइन नं0-011-41011564 एवं 41011565 पर भी संपर्क किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त परफॉरमेंस आधारित रिवार्ड्स की भी व्यवस्था होगी। बिडिंग प्रक्रिया के उपरान्त विशेषज्ञों की सेवाये लिये जाने हेतु एक वर्षीय सेवा अनुबन्ध जिला स्वास्थ्य समिति के माध्यम से किया जायेगा जिसका आवश्यकता एवं परफॉरमेंस के आधार पर नवीनीकरण किया जायेगा।

उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था के माध्यम से प्रदेश की जनता को शीघ्र एवं सुलभ स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ समय से एवं उचित स्थान पर उपलब्ध होगा।

ये भी पढ़ें:ज़िलों में दूर होगी डॉक्टरों की कमी

ये भी पढ़ें:डॉक्टरों की कमी से मरीजों का नहीं हो पा रहा इलाज

ये भी पढ़ें:यूपी में सरकारी डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ी

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top