पीडब्ल्यूडी के ट्रांसफर हुए इंजीनियर पहुंचें तैनाती स्थल पर वरना होगी छुट्टी

पीडब्ल्यूडी के ट्रांसफर हुए इंजीनियर पहुंचें तैनाती स्थल पर वरना होगी छुट्टीलोक निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव सदाकान्त ने दिए निर्देश।

लखनऊ। अगर पीडब्ल्यूडी के सभी स्थानान्तरित अधिकारी अपनी तैनाती स्थल पर जल्द कार्यभार ग्रहण नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। लोक निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव सदाकान्त ने विश्वश्वरैया हाल में आयोजित उप्र लोक निर्माण विभाग की विभागीय समीक्षा बैठक के दौरान दिये, उन्होने कहा कि सभी अधिकारी पूरी क्षमता से कार्य करें।

सदाकान्त ने कहा कि गड्ढ़ामुक्ति अभियान को लोगों ने सराहा है, यह सतत् प्रक्रिया है इसे जारी रखा जायेगा तथा गड्ढ़ामुक्ति अभियान का अवशेष बजट शीघ्र आवंटित होगा। हमें हर हाल में 2018 तक सभी मार्गों को दुरूस्त करना है।

उन्होंने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी सांसदों द्वारा दिये गये प्रस्तावों को प्राथमिकता से निस्तारित करें। उन्होंने यह भी कहा कि सभी कार्यों की स्वीकृतियां, टेण्डर तथा आगणन का कार्य प्रत्येक दशा में सितम्बर तक पूरा जो जाए ताकि अक्टूबर से कार्य प्रारम्भ हो सके। सदाकान्त ने बताया कि अब जहां कहीं रेलवे ओवर ब्रिज बनना है वहां आरओबी तथा एप्रोच रोड का कार्य एक ही कार्यदायी संस्था करेगी ताकि अनावश्यक विलम्ब न हो।

ये भी पढ़ें: दीनदयाल पार्क से गायब हो गए1500 प्रजाति के वृक्ष, अफसर खा गए रखरखाव का बजट

अपर मुख्य सचिव ने सर्वोच्च न्यायायलय, उच्च न्यायालय एवं राज्य लोक अधिकरण में बड़ी संख्या में लम्बित मामलों पर कड़ी नाराजगी जताते हुये निर्देश दिये कि विचाराधीन मुकदमों के निस्तारण में शिथिलता न बरतें गम्भीरता पूर्वक काउन्टर प्रस्तुत करें। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री सन्दर्भ के लम्बित प्रकरणों को गम्भीरता से लें, प्रतिदिन पोर्टल देखें तथा शीर्ष प्राथमिकता से निस्तारित करें।

विभागाध्यक्ष वी0के0 सिंह ने सभी मुख्य अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता तथा अधिशासी अभियन्ताओं को निर्देश दिये कि उनके पास जो भी विभागीय जांच लम्बित है उसे शीघ्र पूरा कर शासन को दे दें ताकि कार्यवाही की जा सके। सिंह ने बताया कि अब सड़कें नवीनतम तकनीक से बनायी जायेंगी। जिससे सड़कों की कम लागत आयेगी तथा गुणवत्ता में सुधार होगा उन्होंने सभी अभियन्ताओं को निर्देश दिये कि जो सड़के केन्द्रीय सड़क निधि से बननी है, उनका आगणन प्रत्येक दशा में 22 अगस्त तक दे दें ताकि उसे शासन को प्रेषित किया जा सके। साथ ही अधूरे पड़े पूलों, रेलवे ओवर ब्रिज तथा एप्रोच मार्ग को अभियान चलाकर पूरा किया जाय ताकि जन सामान्य को होने वाली परेशानी को कम किया जा सके। उन्होंने इन्जीनियरों को सुझाव दिया किया फील्ड में असन्तोष न हो इसलिये जनता की समस्याओं को सुने तथा प्राथमिकता से निस्तारित करें ताकि किसी प्रकार का विवाद न हो और विभाग की छवि अच्छी रहे। अतः सभी अधिकारी अपनी कार्य संस्कृति बदले और गुणवत्ता युक्त कार्य पर विशेष ध्यान दें।

बैठक में सभी जिलों से आये मुख्य अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता तथा अधिशासी अभियन्ता मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें:यूपी: रायबरेली में नदी में डूबने से हुई मासूम की मौत

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top