उत्तर प्रदेश

सिद्धार्थनगर: टेंडर को दो माह बीते, नहीं चालू हो सका शौचालय

सुजीत अग्रहरि, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

सिद्धार्थनगर । जिले के आदर्श रेलवे स्टेशन का हाल बेहाल है। यात्री सुविधाओं के लिए रेलवे ने पे एंड यूज शौचालय का निर्माण कराया है, लेकिन ठेकेदारों में छिड़ी रार के चलते टेंडर के दो माह बाद भी शौचालय चालू नहीं हो सका है।

तीन माह के लिए पड़े टेंडर की निविदा 31 मई को खत्म हो जाएगी, बावजूद रेलवे प्रशासन कुंभकर्णी नींद सो रहा है। टेंडर पाए ठेकेदार महेंद्र कुमार ने बताया, ‘शौचालय में अभी टंकी, मोटर सहित कई काम अधूरे पड़े हैं, जबकि निर्माणकर्ता ठेकेदार अधूरे कार्यों के बीच शौचालय को हैंडओवर करना चाहते हैं। इसके चलते शौचालय चालू नहीं हो पा रहा है।’ शोहरतगढ़ के रहने वाले रामसेवक (50 वर्ष) बताते हैं, ‘शौचालय बनने के बाद भी शोपीस बना हुआ है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ठेकेदारों की आपसी लड़ाई का खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है।’ शिकायतों के बाद भी जिम्मेदार संज्ञान लेने के बजाए प्रकरण को ठंडे बस्ते में डाल अपनी जिम्मेदारियों से इतिश्री कर ले रहे हैं, जिसका खामियाजा मुसाफिरों को भुगतना पड़ रहा है।

रेलकर्मियों का कहना है कि निर्माण के बाद ठेकेदार रेलवे को भवन हैंडओवर करें, ताकि टेंडर पाए ठेकेदार को भवन हैंडओवर किया जा सके, जबकि निर्माणकर्ता ठेकेदार आधे-अधूरे कार्य कराकर मनमर्जी कर रहा है। तीन माह के लिए पड़े टेंडर की निविदा 31 मई को समाप्त हो रही है। पे एंड यूज शौचालय चालू न होने के संबंध में सीपीआरओ संजय यादव से बात करने का कई बार प्रयास किया गया, लेकिन फोन न उठने से बात नहीं हो सकी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।