जुहू चौपाटी की तर्ज पर विकसित होगा रामगढ़ ताल 

जुहू चौपाटी की तर्ज पर विकसित होगा रामगढ़ ताल गोरखपुर का रामगढ़ ताल भी अब मुंबई के जुहू चौपाटी की तर्ज पर विकसित होगा।

लखनऊ (आईएएनएस)। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर का रामगढ़ ताल भी अब मुंबई के जुहू चौपाटी की तर्ज पर विकसित होगा। पयर्टकों को आकर्षित करने के लिए सरकार ने इस ऐतिहासिक ताल के आसपास के क्षेत्रों को पयर्टन की दृष्टि से विकसित करने का काम शुरू कर दिया है।

गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) ने रामगढ़ ताल के सौंदर्यीकरण की कवायद शुरू कर दी है। पिछले कई वर्षों से इस ताल में पूरे शहर का कचरा बहाया जाता था, लेकिन सरकार अब इसको टूरिज्म हब बनाकर इसका सौंदर्यीकरण करवा रही है।

ये भी पढ़ें- पौधे खुद बताते हैं कि उनको कब क्या चाहिए, जानिए कैसे ?

अधिकारियों का दावा है कि 1700 एकड़ में फैले इस रामगढ़ ताल के चारों ओर सड़क का निर्माण कराया जाएगा, जिससे आने वाले समय में पर्यटक इस बदले स्वरूप का आनंद ले सकेंगे।

गोरखपुर विकास प्राधिकरण के वीसी ओम नारायण सिंह के मुताबिक, “रामगढ़ ताल के चारों तरफ सड़क का निर्माण करवाया जा रहा है। वहीं बच्चों के खेलने के लिए पिकनिक स्पॉट बनाया जाएगा। सरकार की पास में ही चिड़ियाघर का निर्माण करवाने की भी योजना है, जिसके लिए प्रशासन से स्वीकृति मिल गई है।”

उन्होंने बताया कि रामगढ़ ताल पर वाटॅर स्पोर्ट्स और तारा मंडल का भी निर्माण करवाने की प्राधिकरण की योजना है, जिससे आने वाले वक्त में गोरखपुर शहर ही नहीं बल्कि प्रदेश से भी टूरिस्ट मुंबई के जुहू चौपाटी का आनंद गोरखपुर में ले सकेंगे। रामगढ़ ताल झील लगभग 1700 एकड़ के क्षेत्र में फैली हुई है। यह गोरखपुर की खूबसूरत जगहों में से एक है, जहां कई पर्यटक और स्थानीय लोग छुट्टियों में घूमने व झील में बोटिंग के लिए आते हैं।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में फिर लहलहाएगी सनई की फसल, जूट उद्याेग को मिलेगा बढ़ावा

गोरखपुर विकास प्राधिकरण के वीसी ओम नारायण सिंह ने बताया रामगढ़ ताल के चारों तरफ सड़क का निर्माण करवाया जा रहा है। वहीं बच्चों के खेलने के लिए पिकनिक स्पॉट बनाया जाएगा। सरकार के पास चिड़ियाघर का निर्माण करवाने की भी योजना है, जिसके लिए प्रशासन से स्वीकृति मिल गई है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top