शीतलहर से बचाव के लिए किए गए उपायों का आकस्मिक निरीक्षण किया जाए : योगी

शीतलहर से बचाव के लिए किए गए उपायों का आकस्मिक निरीक्षण किया जाए : योगीउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि शीतलहर से बचाव के लिए किए गए उपायों का आकस्मिक निरीक्षण किया जाए। उन्होंने कहा कि शीतलहर से बचाव की व्यवस्था में किसी भी प्रकार की लापरवाही तथा भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जिलों को अलाव की व्यवस्था करने, कम्बल वितरित करने एवं रैन बसेरा,शेल्टर होम के संचालन के लिए उनकी मांग को दृष्टिगत रखते हुए धनराशि उपलब्ध कराने का निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि आवश्यकतानुसार तत्काल व्यवस्था करायी जाए।

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि मुख्यमंत्री प्रदेश में अब तक अलाव एवं कम्बल व्यवस्था के लिए दी गई धनराशि एवं इसके सापेक्ष की गई व्यवस्था के सम्बन्ध में उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे।

ये भी पढ़ें- सारस के आशियाने पर इंसानों का कब्ज़ा

प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि अब तक अलाव एवं कम्बल व्यवस्था के लिए जनपदों को कुल 28 करोड 51 लाख 70 हजार रपए की धनराशि उपलब्ध करायी गयी है, जिसमें 43 जनपदों द्वारा लगभग 09 करोड़ 27 लाख रपए अतिरिक्त धनराशि की मांग भी शामिल है। उन्होंने बताया कि अब तक समस्त जनपदों में 60 हजार से अधिक स्थानों पर अलाव जलवाने की व्यवस्था के साथ-साथ 998 रैन बसेरा,शेल्टर होम संचालित किए गए हैं। इसके साथ ही, 5,41,645 कम्बलों का वितरण भी किया गया है, जिनमें स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा वितरित किए गए 1,15,495 कम्बल भी शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- ठंड लगे तो आग तापिए, मगर इन बातों का रखें ध्यान

प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश के समस्त जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये है कि शीतलहर को देखते हुए उनके द्वारा आगामी 11 तथा 12 जनवरी को रैन बसेरा एवं अलाव की व्यवस्था के सत्यापन के लिए अभियान आयोजित किया जाए। साथ ही, इस दौरान आवश्यकतानुसार कम्बलों का वितरण भी किया जाए।

ये भी पढ़ें- शराब ठंड नहीं भगाती, अस्पताल पहुंचाती है, पैग के नुकसान गिन लीजिए

Share it
Top