खत्म होगा पीडब्ल्यूडी, उप्र में सड़क बनाने के लिए बनेगा सड़क निर्माण निगम

Rishi MishraRishi Mishra   19 May 2017 7:31 PM GMT

खत्म होगा पीडब्ल्यूडी, उप्र में सड़क बनाने के लिए बनेगा सड़क निर्माण निगमपीडब्ल्यूडी आॅफिस।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बदहाल सड़कों को दुरुस्त करने और बेहतर नई सड़कों को बनाने के लिए सड़क निर्माण निगम का गठन सरकार करेगी। पीडब्ल्यूडी के तहत जिस तरह से सेतु निर्माण निगम और राजकीय निर्माण निगम की तरह की एक एजेंसी का गठन किया जा चुका है, उसी क्रम में सड़क निर्माण निगम बन जाएगा।

ये एजेंसी सड़कों के निर्माण की पूरी जिम्मेदारी उठाएगी। इसी निगम के भीतर पीडब्ल्यूडी के हजारों कर्मचारी होंगे। मगर इस निर्णय के होते ही पीडब्ल्यूडी के कर्मचारियों के बीच हड़कंप मच गया है। उन्होंने इसके विरोध में आंदोलन का एलान कर दिया। एक महीने के आंदोलन की घोषणा के बाद अनिशचितकालीन हड़ताल की जाएगी। कर्मचारियों का आरोप है कि अगर सड़क निर्माण निगम बनेगा तो पीडब्ल्यूडी विभाग ही कहां रह जाएगा। कोई काम ही बाकी नहीं रहेगा पीडब्ल्यूडी के पास।

ये भी पढ़ें- लोकायुक्त पुलिस के छापे, पीडब्ल्यूडी अफसर की बेहिसाब संपत्ति का खुलासा

पीडब्ल्यूडी के विभागाध्यक्ष वीके सिंह ने बताया कि, शासन स्तर पर ये फैसला हुआ है कि अलग से सड़क निर्माण निगम बनाया जाएगा। सड़क निर्माण निगम सड़कों के निर्माण के लिए बेहतर एजेंसी होगी जो केंद्र सरकार से मिल कर बेहतर काम करेगी। ये न तो पीडब्ल्यूडी के अधीन होगी और न ही पीडब्ल्यूडी इसके अधीन होगा। मगर कर्मचारी अपने विभागाध्यक्ष के इस मत से सहमत नहीं हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष एचके तिवारी की ओर से आंदोलन का एलान कर दिया गया है। उनका कहना है कि इस निगम के बनने के बाद एक तरह से पीडब्ल्यूडी निगम में परिवर्तित हो जाएगा। जिससे हजारों कर्मचारियों का भविष्य अधर में होगा। इसलिए पूरा आंदोलन होगा। पहले एक महीने तक प्रत्येक जिले में पीडब्ल्यूडी कर्मचारी धरना प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद एक प्रदेश स्तरीय प्रदर्शन मुख्यालय पर होगा। आखिरकार अगर मांग पूरी नहीं होती है तब कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल कर देंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top