लखनऊ में बेखौफ बदमाशों ने रियल स्टेट कारोबारी को बंधक बना घर में डाली डकैती

लखनऊ में बेखौफ बदमाशों ने रियल स्टेट कारोबारी को बंधक बना घर में  डाली डकैतीगोमती नगर के रियल स्टेट कारोबारी के घर लूट के बाद पूछताछ करते पुलिस अधिकारी।

लखनऊ। अपराध को रोकने के लिए डीजीपी सुलखान सिंह भले ही मातहतों के कितने ही पेच कस दें, लेकिन प्रदेश में बढ़ते अपराधों का ग्राफ साफ जाहिर करता है कि जमीनी स्तर के अधिकारियों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है। सोमवार तड़के सुबह जिस तरह राजधानी में बेखौफ डकैतों का लखनऊ के पॉश इलाके में तांडव देखने को मिला, उसने पुलिस की सक्रियता पर प्रश्नचिन्ह उठा दिया है।

मामला गोमतीनगर के पॉश इलाका विवेकखंड का है, जहां सोमवार सुबह हथियारबंद डकैतों ने एक रियल स्टेट कारोबारी के घर में धावा बोल पूरे परिवार को बंधक बनाया और जमकर लूटपाट की। यही नहीं पीड़ित परिवार के चीखने-चिल्लाने पर बदमाशों ने उन्हें बुरी तरह पीटा। हैरानी की बात ये है कि यहां बदमाश करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाते रहे और घटनास्थल से चंद मीटर की दूरी पर पुलिस को भनक तक नहीं लगी। बदमाशों के घर से जाने पर पीड़ित परिवार ने फोन द्वारा पुलिस को घटना की सूचना दी। इसके बाद मौके पर एसएसपी, एएसपी सहित आलाधिकारी डॉग स्क्वॉड और फिंगर प्रिंट टीम के साथ घटनास्थल पहुंचे और जांच शुरू की।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गोमती नगर के रियल स्टेट कारोबारी के घर लूट के बाद रणनीति तैयार करती पुलिस।

एसएसपी दीपक कुमार ने डकैतों की तलाश में क्राइम ब्रांच एवं अन्य तीन टीमें लगाई हैं। एसएसपी ने भरोसा दिलाया है कि डकैतों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजा जाएगा। पुलिस के अनुसार गोमतीनगर के 1/38 विवेकखंड में चमनलाल पत्नी सुनीता, बेटी प्रिया, कोमल, काजल और बेटा पियूष के साथ रहते हैं। पीड़ित चमनलाल ने बताया कि रविवार देर रात करीब 2:30 बजे उनके घर में आधा दर्जन से ऊपर हथियारबंद नकाबपोश छत के रास्ते घर में दाखिल हो गये। उस समय आगे वाले कमरे में ही वे सो रहे थे। करीब चार असलाहधारी बदमाशों ने उसकी कनपटी पर तमंचा रख दिया और घर में लगे पर्दे चाकू से फाड़कर उसके हाथ पीछे करके बांध दिए। बदमाशों ने उसके मुंह पर टेप लगा दिया और पैर भी बांधकर चादर से ढक दिया।

ये भी पढ़ें: लखनऊ के गोमती नगर महिला की हत्या, हमलावर सौतेले बेटे को भी लगी गोली

साथ ही बदमाशों ने शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद बदमाश चमनलाल की पत्नी के कमरे में गए और बेटियों एवं बेटे को बंधक बना लिया। पीड़ित का कहना है कि एसएसपी दीपक कुमार, एसपी क्राइम संजय कुमार, सीओ सत्यसेन यादव और थाना प्रभारी विजयमल यादव मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंचे। पुलिस ने पड़ताल की, लेकिन बदमाशों का कोई सुराग नहीं लग सका है। पुलिस का कहना है कि तहरीर के आधार पर डकैती का केस दर्ज कर बदमाशों की तलाश शुरू हो चुकी है।

तिजोरी की चाभी न देने पर पत्नी की पिटाई

कारोबारी के घर में घुसे बदमाश उनकी पत्नी सुनीता से तिजोरी की चाभी मांग रहे थे, चाभी नहीं देने पर बदमाशों ने उनकी बुरी तरह पिटाई कर दी। आखिरकार जब चाभी मिला तो वे घर में रखी करीब ढ़ाई लाख की नकदी व 17 लाख रुपये के सोने-चांदी और हीरे के जेवरात समेत कई कीमती सामान लूट कर फरार हो गए। पीड़ित ने बताया कि बदमाश उसका मोबाईल फोन भी अपने साथ लेकर चले गए। किसी तरह हाथ खोलकर करीब 3:00 बजे उनके बेटे ने 100 नंबर पर पुलिस को डकैती की सूचना दी। सूचना देने के बाद उसने पूरे परिवार को बंधन मुक्त कराया गया।

कुछ दिन पहले कार चुराने का प्रयास

घटनास्थल के पास रहने वाले दूसरे लोगों ने बताया कि, कुछ दिनों पहले भी दो कारों से सवार बदमाश रात में करीब दो बजे आये और पार्क के पास खड़ी कार का लॉक तोड़ उसे चोरी करने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन कॉलोनी में लगे कुछ सीसीटीवी फुटैज में आरोपी दिख गये। यह देख कॉलोनी वालों के शोर मचाने पर सभी कार में बैठ कर फरार हो गये।

पॉश इलाके में घटना से लोगों में दहशत

राजधानी में सबसे सुरक्षित माने जाने वाला इलाका गोमतीनगर कहलाता है, लेकिन इस इलाके में हो रही वारदातों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा दिया है। डकैती की इस घटना से आस-पास के लोग सहमे हुए है। उनका कहना है कि पुलिस गस्त के नाम पर इलाके में केवल खानापूर्ति की जाती है, जिसके चलते अपराधियों के हौसले बुलंद हो रहे हैं।

बड़ी घटनाओं ने पुलिसिंग पर खड़े किए सवाल

सूत्रों की माने तो जब से लखनऊ का कार्यभार एसएसपी दीपक कुमार ने संभाला है, तब से ऐसी घटनाओं में इजाफा हुआ है। बीते शनिवार को ही भीड़-भाड़ वाले इलाके कृष्णानगर में शराब कारोबारी की पत्नी को बेखौफ बदमाशों ने गोली मार दी। इसके कुछ ही घंटे बाद हजरतगंज में एक बुजुर्ग के पैर में गोली मारी गई। इंदिरानगर में मां-बेटी का कत्ल कर दिया गया, इसकी भी पुलिस को भनक नहीं लगी।

एसटीएफ भी जुटी जांच

गोमतीनगर में हुई इस हाई-प्रोफाइल डकैती में आलाधिकारियों ने एसटीएफ टीम को भी जांच के लिए लगाया है। मौके पर पहुंची एसटीएफ टीम ने घटनास्थल के बगल में बने मंगलम् अपार्टमेंट के सीसीटीवी फुटैज को भी खंगाला। हालांकि एसटीएफ को फुटैज में कुछ ऐसा नहीं मिला, जिससे बदमाशों तक पहुंचा जा सके।

एसएसपी ने पीड़ित परिवार से बोला ‘आई एम सॉरी’

गोमतीनगर के विवेकखंड में हुई घटना करीब रात में करीब दो से तीन बजे के बीच हुई है। इसकी जानकारी मातहतों ने देरी से जिले के कप्तान दीपक कुमार को दी। करीब चार घंटे विलंब से घटनास्थल पर पहुंचने पर एसएसपी ने पीड़ित परिवार के सदस्यों को आईएम सॉरी बोल ढाढस देने को प्रयास किया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top