उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के दूसरे चरण में 49 फीसदी हुआ मतदान

Abhishek PandeyAbhishek Pandey   26 Nov 2017 10:32 PM GMT

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के दूसरे चरण में 49 फीसदी हुआ मतदाननिकाय चुनाव में वाट डालने के बाद खुशी जाहिर करते वोटर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव के दूसरे चरण के लिए रविवार सुबह से 25 जिलों के कुल 189 निकायों में मतदान हुआ। चुनाव आयोग के मुताबिक, शुरुआती आंकड़ों के आधार पर इस बार 48.65 % वोट पड़े, जो पिछली बार के मुकाबले 8% ज्यादा हैं। दूसरे चरण में 6 नगर निगम लखनऊ, अलीगढ़, इलाहाबाद, वाराणसी, गाजियाबाद सहित पहली बार निगम में शामिल मथुरा मेंचुनाव सम्पन्न हुआ। इसके अलावा 51 नगरपालिका और 132 नगर पंचायतों के लिए वोट डाले गए। कुल 1.29 करोड़ मतदाताओं ने 24 हजार 622 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला किया।

राज्य चुनाव आयोग कमिश्नर एसके अग्रवाल ने बताया कि, दूसरे चरण में करीब 49 % वोटिंग हुई है। हालांकि देर शाम तक अंतिम आकड़े न आने के चलते स्थिति पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाई। पिछली बार निकाय चुनाव में 44% मतदान हुआ था। जबकि इस चुनाव में बढ़ोतरी की वजह नगर पालिका और नगर पंचायतों में लोगों ने अधिक दिलचस्पी दिखाई।

राजधानी लखनऊ, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, अमरोहा, रामपुर, पीलीभीत, शाहजहांपुर, अलीगढ़, मथुरा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, इटावा, ललितपुर, बांदा, इलाहाबाद, सुल्तानपुर, अम्बेडकरनगर, बहराइच, श्रावस्ती, संतकबीरनगर, देवरिया, बलिया, वाराणसी, भदोही में निकाय चुनाव सम्पन्न होने पर आयोग अंतिम चरण के मतदान के लिए कमर कस ली है। वहीं दूसरे चरण के चुनाव में कई बड़े नेताओं की साख दाव पर लगी है। इनमें पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से लेकर गृहमंत्री राजनाथ सिंह, पूर्व सीएम अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव का क्षेत्र भी शामिल है, जिसमें इन दिग्गजों की किस्मत दांव पर लगी है। वहीं रामपुर सपा के दिग्गज नेता आजम खान का गढ़ माना जाता है। दूसरी ओर बीजेपी के केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी भी इसे अपना गढ़ मानते हैं। ऐसे में इन दो दिग्गजों पर रामपुर की नगर पालिका सीट जीतने का दबाव है। अलीगढ़ से यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह और उनके बेटे संदीप सिंह की साख दांव पर होगी। कल्याण सिंह अभी राजस्थान के गवर्नर और उनके बेटे संदीप सिंह योगी सरकार में मंत्री हैं। अलीगढ़ कल्याण सिंह का गृह जिला है। साथ ही पिछले कई महीनों से सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी की पार्टी से नाराजगी की खबरें सामने आती रही हैं। हालांकि, कई बार वरुण गांधी और बीजेपी संगठन इसे नकार चुका है।

छिटपुट हिंसक घटनाएं आई सामने

उत्तर प्रदेश में चल रहे नगर निकाय चुनाव के दूसरे चरण का मतदान रविवार को छिटपुट हिंसा, लाठीचार्ज और हंगामे के बीच समाप्त हो गया। मतदान के दौरान कई लोगों ने गड़बड़ियों का भी आरोप लगाया। कई जगह विपक्षियों ने वोटर लिस्ट ही गायब करने का आरोप गया तो राजधानी लखनऊ के काकोरी थानाक्षेत्र में एसडीएम सदर अमित कुमार पोलिंग बूथ के बाहर खड़े लोगों को देख आपा खो बैठे और लोगों को गलियां देकर भगाया। वहीं सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए एडीजी अभय कुमार, आईजी रेंज लखनऊ जय नारायण सिंह, एसएसपी दीपक कुमार, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा स्थित क्यूआरटी की टीम, एसडीएम और पुलिस अधिकारी मतदान के दौरान भ्रमण करते रहे। पुलिस अधिकारियों ने वोटिंग के दौरान गड़बड़ी करने वाले लोगों के विरुद्ध कार्रवाई भी की। मतदान के दौरान ग्रामीण इलाकों में काफी उत्साह देखने को मिला वहीं शहरी क्षेत्र में मतदान का प्रतिशत कम रहा। मतदान के दौरान कई जिलों में ड्रोन कैमरे से निगरानी भी की गई। वहीं कई पोलिंग बूथों पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी को लेकर हंगामा हुआ।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव में भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर : सुबोध श्रीवास्तव 

वहीं मतदान केंद्रों पर शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए पुलिस बल मौजूद थे। लेकिन इसके बाद भी लखनऊ में कई जगह प्रत्याशियों के समर्थकों से लेकर परेशानी झेल रहें वोटर्स आपस में भिड़ गए। पुलिस को झड़प से लेकर मारपीट तक कई सूचनाएं पल-पल की मिल रही थी, जिसे लेकर पुलिस पूरे घंटे हलकान दिखी। लेकिन इसी बीच लखनऊ में कई स्थानों पर छुट-पुट झड़प की घटना सामने आई। इसे पुलिस व सुरक्षा में तैनात जवानों ने वक्त रहते काबू में किया। पुराने लखनऊ में अंबरगंज वार्ड में भाजपा के प्रत्याशी और टिकट के लिए दावेदार रहे प्रत्याशी के समर्थकों के बीच झड़प हो गई। कहासुनी थोड़ी ही देर में हाथापाई में तबदील हो गई। इसके बाद पुलिस ने मामला शांत कराया। वहीं इंदिरानगर के सेंट्रल एकेडमी पोलिंग बूथ पर बीजेपी के पाषर्द प्रत्याशी ने कॉग्रेंस प्रत्याशी पर फर्जी वोट डलवाने का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। इसके अलावा भवानीगंज वार्ड में सपा और बीजेपी पार्टी के समर्थकों के बीच विवाद हो गया। वोटिंग के दौरान बूथ के करीब मारपीट शुरु हो गई। साथ ही मेहंदीगंज के फातिमा स्कूल में मतदान डालने के दौरान लोगों में विवाद हो गया। एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार सुबह से ही शहर के संवेदनशील पोलिंग बूथ का औचक निरीक्षण किया।

उधर वाराणसी जिले के सारनाथ थाना क्षेत्र के सेंट मैरिज स्कूल में फर्जी वोट डालने के आरोप में 8 महिलाएं, 2 पुरुष हिरासत में लिए गए। फर्रूखाबाद जिले की डीएम मोनिका ने बदतमीजी की हद पार करते हुए चुनाव में लगे अफसर को थप्पड़ मारे। भरी मीटिंग में डीएम ने एआरओ दीपेंद्र को पीटा। मोनिका रानी विवादित छवि की आईएएस अफसर हैं। सहारनपुर, चित्रकूट में भी ऐसी बदतमीजी कर चुकी हैं।

इटावा जिले के सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के पोलिंग बूथ में पुलिस से अभद्रता करने के आरोप में सभासद प्रत्याशी को गिरफ्तार किया गया। अलीगढ़ में फर्जी मतदान को लेकर दो समुदायों में झड़प और पथराव हुआ। पोलिंग बूथ के पास दो समुदायों के लोगों में पथराव से हड़कंप मच गया। मौके पर तैनात पुलिस बल ने हालात को संभाला।

देवरिया जिले में फर्जी आधार कार्ड बनवाकर बूथ एजेंट बनने के आरोप में सदर नगर पालिका के दो बूथों से तीन युवकों को हिरासत में लिया गया। मथुरा जिले में वोटरों ने पुलिस पर लाठीचार्ज का आरोप लगाया। आरोप है कि पुलिस ने आजमपुर गांव के बूथ बार्ड नंबर-40 पर हंगामा काट रहे लोगों पर लाठीचार्ज कर दिया इसमें एक महिला घायल हो गई। लखनऊ के सुन्नी इंटर कॉलेज में एसएसपी दीपक कुमार ने दो फर्जी पोलिंग एजेंट को हिरासत में लेने का आदेश दिया। उधर लखनऊ में बीएलओ की लापरवाही के चलते कई लोग वोट डालने से हुए वंचित हुए इसको लेकर यूनिटी कॉलेज पर भी हंगामा हुआ। फर्रुखाबाद जिले में लोगों ने वोटर लिस्ट से नाम कटने के विरोध में मतदान केंद्र पर हंगामा किया। नगर पालिका फर्रुखाबाद के मोहल्ला बनखड़िया केंद्र पर 300 मतदाताओं का नाम बीएलओ की लापरवाही से गायब होने के बाद हंगामा हुआ। अमरोहा जिले में नगर पालिका वार्ड-18 से बीजेपी प्रत्याशी प्रतीक शर्मा को पुलिस ने जमकर पीटा। पुलिस की बूथ पर मोबाइल ले जाने को लेकर नोकझोक हुई थी। भाजपा नेता ने अपर पुलिस अधीक्षक और अपर जिला अधिकारी पर समाजवादी के पक्ष पात करने का आरोप लगाया। इलाहाबाद जिले में राजकीय इंटर कॉलेज बूथ के बाहर दो युवकों ने मतदान के केंद्र के पास सुतली बम फेंका। देशी बम के फटने कोई हताहत नहीं हुआ। मौके पर पहुंची कोतवाली पुलिस जांच में जुटी रही। कुछ ऐसा ही हाल प्रदेश के उन जिलों में रहा, जहां रविवार को मतदान था। हालांकि राज्य चुनाव आयोग ने शांतिपूर्ण मतदान कराने का दावा किया है।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव : सौ साल में पहली बार एक महिला बनेगी लखनऊ की मेयर  

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top