रिवर फ्रंट की जांच के बीच योगी से मिले शिवपाल 

रिवर फ्रंट की जांच के बीच योगी से मिले शिवपाल समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल सिंह यादव।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आज समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल सिंह यादव ने मुलाकात की। ये मुलाकात ऐसे समय में हुई जब तीन दिन पहले ही मुख्यमंत्री योगी ने 1437 करोड़ रुपये की रिवर फ्रंट परियोजना की न्यायिक जांच का आदेश दिया है। ये परियोजना सिंचाई विभाग ने संचालित की थी। जिस समय परियोजना परवान चढ़ी थी, उस वक्त शिवपाल यादव ही उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री रहे थे। ऐसे में इस मुलाकात को लेकर सियासी हलको में कई नजरों से देखा जा रहा है। जबकि शिवपाल यादव से जुड़े लोग इसको सीएम से शिवपाल की शिष्टाचार भेंट बता रहे हैं। प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री से समाजवादी पार्टी परिवार के लोगों की मुलाकात का सिलसिला जारी है। इससे पहले अपर्णा और प्रतीक भी मुख्यमंत्री से मुलाकात कर चुके हैं। सपा नेता शिवपाल इटावा की जसवंतनगर सीट से पार्टी के विधायक भी हैं। उनकी यह मुलाकात मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पांच कालिदास मार्ग पर करीब 15 मिनट तक चली।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वहीं योगी से सपा परिवार के लोगों के मिलने की शुरुआत 19 मार्च को ही हो गयी थी, जब शपथ ग्रहण समारोह में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव बेटे अखिलेश यादव के साथ पहुंचे। उन्होंने और अखिलेश ने योगी को बधाई दी थी। इसी दौरान समारोह में मौजूद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अभिवादन करते हुए मुलायम को उनके कान में कुछ कहते देखा गया था। मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव भी पति प्रतीक के साथ फूलों का गुलदस्ता लेकर 24 मार्च को योगी से मिलने वीवीआईपी गेस्ट हाउस पहुंचीं थीं।

मुख्यमंत्री भी देखने गए थे अपर्णा का गोशाला

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 31 मार्च को अपर्णा की संस्था द्वारा संचालित गोशाला देखने भी गये थे। सरोजनीनगर में 54 एकड भूमि पर बने ‘कान्हा उपवन' में योगी के भ्रमण के दौरान उनके साथ उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा, मंत्री सुरेश खन्ना और स्वाति सिंह भी थे। केसरिया साड़ी पहने अपर्णा ने पति प्रतीक के साथ मुख्यमंत्री का स्वागत किया। योगी ने गायों को गुड़ और चारा भी खिलाया।

क्या शिवपाल ने अपना पक्ष रखा!

उधर अखिलेश से खफा मुलायम सिंह यादव एक अप्रैल को मैनपुरी में बोले कि उनके बेटे ने उनका अपमान किया है ‘‘जो अपने पिता का नहीं हो सका, वह आपका क्या होगा।'' अगले ही दिन दो अप्रैल को शिवपाल ने इटावा में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि वह नेताजी (मुलायम) के साथ हैं और उनके ही साथ रहेंगे। शिवपाल यादव ने योगी आदित्यनाथ से मिलने का समय दो दिन पहले मांगा था और उनको मिलने के लिए मंगलवार की सुबह 11:00 बजे का समय दिया गया। शिवपाल यादव अपने पुत्र आदित्य यादव के साथ योगी से मिलने पहुंचे। 15 मिनट की बातचीत के बाद मीडिया से बिना बात किये ही शिवपाल वापस चले गए।

मगर तीन दिन पहले योगी ने रिवर फ्रंट परियोजना की सेवानिवृत्त न्यायाधीश से जांच कराने का आदेश दिया था। शिवपाल यादव जब सिंचाई मंत्री थे, तब परियोजना में जम कर खर्च किया गया। मगर गोमती की स्वच्छता पर कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ा। गोमती जहां की तहां प्रदूषित रही। पहले योगी ने परियोजना क्षेत्र का निरीक्षण किया, उसके बाद में जांच के लिए बोला। अब शिवपाल यादव को योगी से मिलने जाना इस घोटाले में अनौपचारिक रूप से शिवपाल ने अपना पक्ष रखा हो, इससे जोड़ कर भी देखा जा रहा है।


ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top