संगीत सोम को भड़काऊ वीडियो मामले में एसआईटी ने दी क्लीनचिट

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   15 April 2017 10:33 AM GMT

संगीत सोम को भड़काऊ वीडियो मामले में एसआईटी ने दी क्लीनचिटभाजपा विधायक संगीत सोम

नई दिल्ली। मेरठ के सरधना से भाजपा विधायक संगीत सोम को दंगा संबंधी मामलों की जांच कर रहे विशेष जांच दल ने एक सोशल मीडिया वेबसाइट पर अपलोड किये गए फर्जी लेकिन भड़काउ वीडियो के मामले में क्लीन चिट दे दी है।

मामले के जांच अधिकारी, निरीक्षक धर्मपाल त्यागी ने यहां की एक अदालत में अंतिम रिपोर्ट दायर करते हुए कहा कि आरोपी संगीत सोम के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। जांच के दौरान एसआईटी ने केंद्रीय जांच ब्यूरो के जरिये सोशल मीडिया साइट, फेसबुक के अमेरिका स्थित मुख्यालय से उक्त वीडियो अपलोड करने के संबंध में जानकारी मांगी थी जिससे लोगों की साम्प्रदायिक भावनाएं भड़की थीं और दंगा हुआ था।

पुलिस ने सरधना से भाजपा विधायक सोम और दो सौ से अधिक अन्य व्यक्तियों के खिलाफ एक मामला दर्ज किया था जिन्होंने वीडियो को ‘लाइक’ किया था। पुलिस ने यहां दो सितम्बर 2013 को इन लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा 66 के तहत मामला दर्ज किया था।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

एसआईटी ने अदालत में दाखिल अपनी रिपोर्ट में कहा कि यद्यपि फेसबुक मुख्यालय उन लोगों के नामों के बारे में जानकारी मुहैया कराने में असफल रहा जिन्होंने वीडियो अपलोड किया था या वीडियो को ‘लाइक’ किया था। मुख्यालय ने कहा कि वह एक वर्ष का ही रिकार्ड रखता है।

आरोपी व्यक्तियों पर एक भड़काऊ वीडियो फेसबुक पर फैलाने का आरोप लगाया गया था जिसमें दो युवाओं की हत्या करते हुए दिखाया गया था। इससे मेरठ जिले में साम्प्रदायिक तनाव उत्पन्न हो गया और दंगे हुए थे लेकिन जांच में वीडियो करीब दो वर्ष पुराना पाया गया और उसे अफगानिस्तान या पाकिस्तान में बनाया गया था। 2013 में मुजफ्फरनगर और आसपास के क्षेत्रों में हुए दंगे में 60 से अधिक व्यक्ति मारे गए थे और 40000 से अधिक विस्थापित हो गए थे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top