91.58 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में इस बार होगी खरीफ की बुवाई 

91.58 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में इस बार होगी खरीफ की बुवाई खरीफ में धान की खेती। प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के किसान जून से खरीफ सीजन में धान, मक्का, ज्वार, बाजरा, तिल, उर्द, मूंग, अरहर, मूंगफली, तिल और सोयाबीन जैसी फसलों की बुवाई करेंगे। इस सीजन में किसान अच्छी पैदावार करके अपनी आय दोगुनी कर सकें इस संकल्प को लेकर मंगलवार काे कृषि भवन में राज्य स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी-2017 का आयोजन किया गया। इसमें बताया गया कि खरीफ का सीजन जून-जुलाई से शुरू होकर नवंबर तक जाता है। उत्तर प्रदेश कृषि विभाग ने खरीफ सीजन में पिछले साल के मुकाबले फसलों की बुवाई का क्षेत्रफल और खाद्यान्न उत्पादन बढ़ाने का लक्ष्य निर्धारित किया।

पिछले साल इस सीजन में 91.44 लाख हेक्टेयर में फसलों की बुवाई हुई थी इस बार 91.58 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में बुवाई का लक्ष्य तय किया गया है। पिछले साल खरीफ में 185.11 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न का उत्पादन हुआ था, जबकि इस बार 194.62 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। खरीफ की मुख्य फसल धान का का उत्पादन बढ़ाने की भी कृषि विभाग ने तैयारी शुरू की है। पिछले साल प्रदेश में 59.66 लाख हेक्टेयर में धान की खेती से 143.96 लाख मीट्रिक टन धान का उत्पादन हुआ था, इस बार इतने ही हेक्टेयर में 151.30 लाख मीट्रिक टन धान को उत्पादन का लक्ष्य तया हुआ है। उत्पादन के इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कृषि विभाग ने किसानों को उन्नत कृषि तकनीक का प्रयोग, संकर बीजों के प्रयोग का विस्तार, मृदा परीक्षण, संतुलित उवर्रक, जैविक खाद और प्रमाणित बीज को उपलब्ध कराने का फैसला किया है।

अच्छे किस्म का बीज किसानों को होगा वितरित

इस सीजन में किसान उच्च गुणवत्ता के बीजों की बुवाई कर सके इसके लिए कृषि विभाग किसानों के बीच विभिन्न फसलों का 854983 कुंतल प्रमाणित बीज वितरित करने जा रहा है। जिसमें धान का 681000 कुंतल बीज, मक्का 15000 कुंतल, ज्वार 4000 कुंतल, बाजरा 1750 कुंतल, उर्द 40640 कुंतल, मूंग 8500 कुंतल, अरहर 21850 कुंतल, मूंगफली 20250 कुंतल, तिल 3900 कुंतल और सोयाबीन 5100 कुंतल बीज का किसानों को दिया जाना है। यह बीज 10 मई से किसान अपने ब्लाक पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं।

खरीफ के इस सीजन में किसानों के लिए 26 लाख मीट्रिक टन यूरिया, 13 लाख मीट्रिक टन फास्फेट उवर्रक और 2 लाख मीट्रिक टन पोटैसिक उर्वरक दिया जाएगा। इस सीजन में किसानों को 41610.88 करोड़ रुपए का फसली ऋण और साल 2017-18 के लिए 47.02 लाख किसान क्रेडिट कार्ड वितरण का भी लक्ष्य रखा गया है।

ये रहे उपस्थित

राज्य स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही उपस्थित थे। कृषि राज्यमंत्री रणवेन्द्र प्रताप सिंह, कृषि सचिव रजनीश गुप्ता, कृषि निदेशक ज्ञान सिंह समेत कई कृषि वैज्ञानिक ने खरीफ में कृषि उत्पादन कैसे बढ़ाया जाए इसपर अपनी राय रखी। सभी अपर कृषि निदेशक, मंडलीय संयुक्त कृषि निदेशक व उप कृषि निदेशक समेत अन्य कृषि अधिकारी उपस्थित रहे।


Share it
Share it
Share it
Top