उत्तर प्रदेश में बढ़ेगा चीनी का परता

उत्तर प्रदेश में बढ़ेगा चीनी का परताप्रदेश के गन्ना राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेश राणा ने कहा कि गन्ना विभाग में किसी भी प्रकार की ढिलाई एवं भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में किसान कम लागत में अधिक गन्ना उत्पादन कर सकें और प्रदेश में चीनी का परता बढ़े इसके लिए प्रदेश सरकार किसानों और चीनी मिलों के साथ मिलकर काम करने जा रही है। प्रदेश के गन्ना राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेश राणा ने कहा, ‘गन्ना विभाग के सभी उप आयुक्तों और जिला गन्ना अधिकारियों को वर्ष 2017-18 में चीनी परता में एक प्रतिशत की वृद्धि के लिए चीनी मिलों के समन्वय से कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए गए हैं।’

उन्होंने कहा कि गन्ना विभाग में किसी भी प्रकार की ढिलाई एवं भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सभी अधिकारी मेहनत व लगन से काम करें। गन्ना मंत्री ने कहा कि प्रदेश की 23 चीनी मिलों में से शामली, दौराला, कुम्भी, गुलरिया, अजबापुर, रूपापुर, पारले, पीलीभीत, नंगलामल, मनकापुर, सेवरही, हाटा, अकबरपुर, बिलाई और सठियावं चीनी मिल वर्ष 2017-18 में चीनी परता में एक प्रतिशत वृद्धि के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई है।

गन्ना मंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि चीनी परता में एक प्रतिशत की वृद्धि के लिए चीनी मिलों के क्षेत्र में गन्ने की उन्नतिशील प्रजाति की अधिक उपज व अधिक परता वाले गन्ना बीज, उर्वरक एवं दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता, गन्ना बुवाई की आधुनिक विधि अपनाने और पेड़ी गन्ने का प्रबंधन कराने के निर्देश सभी अधिकारियों को दिए जाए। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों के गन्ने मूल्य का भुगतान समय से किया जाए। किसी किसान को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए।

सुरेश राणा ने कहा कि गन्ना विकास के सघन कार्यक्रम से एक ओर जहां किसान कम लागत में अधिक गन्ना उत्पादन करेंगे वहीं दूसरी ओर चीनी मिलों की आय में वृद्धि होगी। समय पर गन्ना मूल्य का भुगतान सुनिश्चित होगा जिसके फलस्वरूप राज्य सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का जो संकल्प लिया है उसे पूरा किया जा सकेगा।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top