सुलखान सिंह बने यूपी के नए डीजीपी, जावीद अहमद को डीजी पीएससी बनाया गया

सुलखान सिंह बने यूपी के नए डीजीपी, जावीद अहमद को डीजी पीएससी बनाया गया1980 बैच के आईपीएस सुलखान सिंह उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी।

लखनऊ। तेज-तर्रार पुलिस अधिकारी के रूप में पहचान रखने वाले 1980 बैच के आईपीएस सुलखान सिंह उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी बनाए गए हैं। जबकि, उत्तर प्रदेश के डीजीपी रहे जावीद अहमद को डीजी पीएससी पर भेजा गया है। सुलखान सिंह डीजी प्रशिक्षण के पद पर तैनात थे। यूपी के बांदा जिले के रहने वाले हैं और उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग के साथ वकालत की डिग्री हासिल की है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

आपकों बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने शुक्रवार को पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल किया। जिसमें 12 आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया। इसमें पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड के डीजी के साथ ही डीजी अभियोजन की जिम्मेदारी निभा रहे डॉ. सूर्य कुमार से डीजी अभियोजन की जिम्मेदारी ले ली गई है। डीजी अभिसूचना जवाहर लाल त्रिपाठी को डीजी अभियोजन बनाया गया है। डीजी होमगार्डस आलोक प्रसाद को डीजी होम गार्ड्स के साथ ही डीजी पुलिस प्रशिक्षण का प्रभार दिया गया है। एडीजी लाजिस्टिक्ट पद पर तैनात आदित्य मिश्र को एडीजी ला एंड आर्डर बनाया गया है। अभी तक इस पद पर दलजीत चौधरी थे।

भवेश कुमार सिंह अपर पुलिस महानिदेशक अभिसूचना बने

दलजीत चौधरी को एडीजी ईओडब्ल्यू के साथ ही लाजिस्टिक्स का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। अपर पुलिस महानिदेशक सुरक्षा भवेश कुमार सिंह को अपर पुलिस महानिदेशक अभिसूचना बनाया गया है। अपर पुलिस महानिदेशक एटीसी सीतापुर विजय कुमार को अपर पुलिस महानिदेशक सुरक्षा बनाया गया। जबकि, प्रतिक्षा में चले रहे पुलिस महानिरीक्षक आलोक कुमार को पुलिस महानिरीक्षक पीएसी इर्स्टन जोन बनाया गया है।

पुलिस महानिरीक्षक डीजीपी के सहायक, मुख्यालय संजय सिंघल को पुलिस महानिरीक्षक पीएसी मध्य जोन का बनाया गया है। पुलिस महानिरीक्षक वुमेन पावर लाइन लखनऊ के साथ ही पुलिस महानिरीक्षक पीएसी मध्य जोन लखनऊ की कमान संभाल रहे नवनीत सिकेरा को पुलिस महानिरीक्षक मध्य जोन से हटा दिया गया है। वह पुलिस महानिरीक्षक वुमेन पावर लाइन लखनऊ के पद पर बनें रहेंगे।

सुलखान सिंह रेस में भी थे आगे

उत्तर प्रदेश में सरकार बदलने के साथ ही प्रशासनिक और पुलिस महकमें में भारी फेरबेदल की संभावना जताई जा रही थी। राज्य में बीजेपी की सरकार बनने और उसकी कमान आदित्यनाथ योगी के हाथ में आने से माना जा रहा था कि जल्द ही मुख्यमंत्री पुलिस विभाग में बड़ा बदलाव कर सकते हैं। लेकिन, मुख्यममंत्री ने पद संभालने के एक महीने बाद पुलिस विभाग में फेरबदल किया। इस दौरान राज्य में नए डीजीपी की जब तलाश चल रही थी, तो रेस में सुलखान सिंह और प्रवीण सिंह का नाम आगे बताया जा रहा था।

निर्वतमान डीजीपी जावीद अहमद को सपा मुखिया मुलायम सिंह करीबी माना जाता है और मुलायम सिंह ने ही उन्हें अखिलेश यादव से कहकर यूपी का डीजीपी बनाया था। एक जनवरी 2016 को यूपी के डीजीपी का कार्यभार संभालने वाले जावीद अहमद की नियुक्ति को लेकर वरिष्ठता के क्रम में कई सवाल खड़े हुए थे। माना जा रहा था कि उनको डीजीपी बनाते समय अखिलेश सरकार ने कई वरिष्ठ अधिकारियों की अनदेखी की थी। उस समय 1979 बैच के आईपीएस रंजन द्विवेदी का नाम सबसे ऊपर था। उसके अलावा 1980 बैच के सुलखान सिंह, विजय सिंह और दूसरे कई लोगों के नाम थे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top