अधीक्षण अभियंता ने किसानों को भगाया,नाराज किसान धरने पर बैठेें

अधीक्षण अभियंता ने किसानों को भगाया,नाराज किसान धरने पर बैठेेंधरने पर बैठें किसान

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। किसान कई दिनों से अधिकारी से मिलने के लिए आवास विकास प्राधिकरण के चक्कर काट रहे थे, लेकिन अधिकारी से मुलाकात नहीं हो पाई। किसान यूनियन के पदाधिकारियों के साथ किसान आवास विकास के कार्यालय गए तो अधिकारी ने किसानों से मिलने से साफ मना कर दिया साथ ही उन्हें कमिश्नर के कार्यालय जाने को कहा,अधिकारी के रवैये से आहत किसान भाकियू के पदाधिकारी के नेतत्व में वहीं धरना प्रदर्शन पर बैठ गए।

उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद अधीक्षण अभियंता वृंदावन वृद्ध लखनऊ जिला मुख्यालय से 12 किलोमीटर पर स्थित आवास एवं विकास परिषद वृंदावन योजना कार्यालय पर आज दिनांक 2/8/17 को वृंदावन योजना के किसान अपनी समस्याओं को लेकर आवास एवं विकास परिषद कार्यालय वृंदावन योजना मैं एक हफ्ते से दौड़ रहे किसान आज अधीक्षण अभियंता दिनेश कुमार से मिलने पहुंचे।

ये भी पढ़ें - RBI ने घटाई ब्याज दरें, रेपो रेट में 0.25 फीसदी कटौती, जानिए, क्या हैं रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट

भाकियू के किसान प्रतिनिधी आशीष यादव ने उन्हें किसानों की समस्याएं सुनने का अनुरोध किया जिस पर अधीक्षण अभियंता भड़क गए आशीष ने बताया, "उन्होंने कहा कि हम किसानो से नहीं मिलेंगे हमे इनकी समस्याओं से कोई लेना देना नही है जाकर कमिश्नर को घेरो और उनसे काम न चले तो योगी और मोदी से जाकर मिल लो।


उतरेटिया के किसान राजेश शुक्ला ने बताया, 'आवास विकास विभाग में बिना सुविधा शुल्क दिए कोई काम नहीं होता, आवास विकास परिषद द्वारा वृंदावन योजना एक के राजस्व ग्राम उतरेटिया के श्मशान घाट की भूमि खसरा नम्बर 194 श्मशान घाट के नाम से दर्ज है,जिस पर परिषद का कब्जा है और उक्त भूमि के बदले परिषद ने दूसरी जगह जमीन देने की बात कही थी लेकिन आज तक नहीं दी।"

ये भी पढ़ें- मिस्ड कॉल कर सुन सकते हैं कहानियां

किसान प्रदीप कुमार ने बताया, "वृंदावन योजना में सफाई नहीं होती, जबकि कागजों पर सफाई कर्मी तैनात है व उनका भुगतान भी किया जा रहा है।"भाकियू के स्थानीय प्रतिनिधि आशीष यादव ने बताया कि 10 सूत्रीय समस्याएं लेकर अधीक्षण अभियंता के पास गए थे लेकिन समस्याए सुनना तो दूर उन्होंने मिलने से ही इनकार कर दिया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top