गाँव कनेक्शन का सर्वे हमें प्रेरित करेगा कि हम और तेजी से काम करें : रीता बहुगुणा जोशी

गाँव कनेक्शन का सर्वे हमें प्रेरित करेगा कि हम और तेजी से काम करें : रीता बहुगुणा जोशीकैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी से बात करते सहायक संपादक मनीष मिश्रा।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिछले एक महीने के कामकाज के बारे में लोगों की क्या राय है, इस बारे में कराए गए गाँव के कनेक्शन सर्वे को उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने विश्वसनीय मानते हुए कहा कि यूपी में कार्यशैली बदली है। उन्होंने आगे कहा, "जनता योगी सरकार से खुश है, यह हमें प्रेरित करेगा कि हम और तेजी से काम करें।"

गाँव कनेक्शन द्वारा 20 जिलों के 200 ब्लॉक में कराए गए सर्वे में 71 प्रतिशत लोगों ने माना कि प्रदेश सरकार सही दिशा में कार्य कर रही है। जबकि 62 प्रतिशत ने सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों को सही माना। महिला एवं बाल कल्याण विभाग की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा, "हर आदमी मान रहा कि योगी सरकार सही दिशा में काम कर रही है। योगी जी परिश्रमी हैं और दूरदर्शी भी हैं, संकल्प पत्र के प्रति भाजपा और मंत्रि परिषद समर्पित है।"

ये भी पढ़ें- #Exclusive एक महीना योगी का : क्या कहते हैं यूपी के गाँव और शहरों के लोग

योगी सरकार के एक महीने में फर्स्ट डिवीजन से पास होने पर रीता बहुगुणा जोशी ने कहा, "मुझे आज तक एक व्यक्ति नहीं मिला कि जो यह कहे कि आप की सरकार से यह गलती हो रही है। आशाएं बहुत हैं, इनपर खरा उतरना कोई सरल काम नहीं है। शुरुआत अच्छी है, मुझे लगता है आने वाले पांच सालों में इस प्रदेश में बहुत कुछ बलेगा।" सर्वे में हर वर्ग के लोगों से बात की गई। यह सर्वे उसी तरह से किया गया जैसे अमेरिका में राष्ट्रपति की समय-समय पर अप्रूवल रेटिंग ली जाती है।

मुझे आज तक एक व्यक्ति नहीं मिला कि जो यह कहे कि आप की सरकार से यह गलती हो रही है। आशाएं बहुत हैं, इनपर खरा उतरना कोई सरल काम नहीं है। शुरुआत अच्छी है, मुझे लगता है आने वाले पांच सालों में इस प्रदेश में बहुत कुछ बलेगा।
रीता बहुगुणा जोशी, कैबिनेट मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार

योगी सरकार के चर्चित एंटी रोमियो अभियान को भी सर्वे में काफी सराहना मिली। खासकर महिलाओं ने इस फैसले को काफी पसंद किया है। "एंटी रोमियो स्क्वायड जो बना है वह समाज के उस तबके के लिए है जो लाखों में मात्र दस से पंद्रह लोग होते हैं। आम आदमी खुश है, महिलाएं खुश हैं, लड़के-लड़कियां खुश हैं, मैंने भी कई लड़कियों और महिलाओं से बात की है, वह खुश हैं, छेड़खानी में बहुत कमी आ गई है," रीता जोशी ने कहा, "अश्लील फब्तियों पर लगाम लगी है, हम ऐसे लोगों को छह माह के अंदर प्रदेश से बाहर कर देंगे।"

प्रदेश में वीआईपी कल्चर पर लगाम लगाने के बारे में मंत्रियों को दिए गए निर्देश के बारे में कहा, "ऐसा निश्चित हुआ है, अब किसी की हिम्मत नहीं कि बिना लाइसेंस की गाड़ी लेकर चले, या लालबत्ती लगाकर चले। हम सभी को हिदायत दी गई कि ट्रैफिक रूल्स के हिसाब से चलें। नियमों को पालन करें। किसी मंत्री के संरक्षण में उसका नेता दबंगई नहीं करेगा। निश्चित रूप से व्यवस्था में बहुत परिवर्तन आएगा, और यही परिवर्तन हमें लोकप्रिय बनाएगा।"

सर्वे में लोगों ने वीआईपी कल्चर खत्म करना और मंत्रियों को सम्पत्ति की घोषणा के लिए कहना, सरकार के असरदार निर्णयों में से माना है। ब्यूरोक्रेसी मंथ दिख रहे बदलाव पर उन्होंने कहा, "योगी जी का स्पष्ट संदेश है कि भ्रष्टाचार नहीं चलेगा, विभागों में ऐसे काम हो कि कोई उंगली न उठा सके। अधिकारियों को सख्त निर्देश हैं कि फील्ड में रहिए जनता से मिलिए, खुद दौरे करिए।

ये भी पढ़ें- #Exclusive एक महीना योगी का : फैसलों की परीक्षा में भाजपा सरकार फर्स्ट डिवीजन पास

रोज कम से कम दो घंटे जनता से मिलना है, एअरकंडीशन कमरे से निकलो, बाहर चलो, अगर 14 से 15 घंटे काम नहीं कर सकते तो आप को कहीं ऐसी जगह भेजा जाएगा, जहां निष्क्रियता ही हो।" उन्होंने कहा, "अधिकारी जान रहे हैं कि जगह सिर्फ काम से बनेगी, चापलूसी से नहीं, काम करने के तरीके में अंतर आया है। सरकार का पूरा ध्यान पारदर्शिता, ईमानदारी, और विकास पर है। योगी सरकार में यूपी का काम करने का तरीका बदलेगा, इससे अपने आप राज्य तरक्की करेगा।"

ये भी पढ़ें- यूपी : सड‍़क छाप आशिकों के खिलाफ चलाए गए एंटी रोमियो अभियान की जबरदस्त लोकप्रियता

प्रदेश में फैले भ्रष्टचार पर रीता जोशी ने कहा, " नीचे से ऊपर तक इतना भ्रष्टाचार है कि कोई भी योजना आए मिट्टी हो जाती है। सभी विभागों की समीक्षा हो रही है, जैसे-जैसे निर्देश दिए जा रहे हैं, वो स्पष्ट करते हैं कि योगी जी जान रहे हैं किस तरह से उत्तर प्रदेश को भ्रष्टाचार से निजात दिलाना है। ग्रामीणों और शहरी लोगों में एक विश्वास पैदा करना है इस पर मुख्यमंत्री जी काम कर रहे हैं, अब लोगों में संदेश है कि मोदी का मतलब बिजनेस।"

प्रदेश में बरोजगारी से निपटने के लिए सरकार को सबसे अधिक प्राथमिकता देने की मांग की गई है। दूसरे नंबर पर कानून-व्यवस्था, तीसरे पर महिला सुरक्षा को रखा गया है।

"पिछली सरकारों ने तो खाली पद ही नहीं भरे, सरकारी पदों में रिक्तियां ही नहीं भरी, पांच लाख पद अभी भी खाली पड़े हैं, पुलिस के पद जल्दी भरे जाएंगे। हर विभाग से पूछा जा रहा है कि आप अपना दृष्टिकोण दीजिए, आने वाले साल और पांच सालों में कितना रोजगार सृजन कर सकेंगे। हर विभाग इसमें लगा हुआ है कि कौन से ऐसे कार्य करें कि जिससे रोजगार सृजन हो सके। हमारी सरकार इसका पूरा प्लान बना रही है, हमारी सरकार का पूरा प्रयास होगा कि पांच साल में 70 लाख लोगों को रोजगार दिया जा सके," रीता बहुगुणा जोशी ने कहा।

Share it
Share it
Share it
Top