त्रिपुरा बार्डर से भारत में घुसा था आतंकी अब्दुल्लाह

त्रिपुरा बार्डर से  भारत में घुसा था आतंकी अब्दुल्लाहयूपी एटीएस ने अब्दुल्लाह के मामले में किए कई खुलासे।

लखनऊ। यूपी एटीएस ने अब्दुल्लाह ने बुधवार को पूछताछ में कई चौकाने वाले खुलासे किए हैं। आतंकी अब्दुल्लाह ने एटीएस को बताया, वह बांग्लादेश से भारत में त्रिपुरा के बार्डर घुसा था, जिसके बाद उसने सहारनपुर पहुंच कर अपने साथी से नौ हजार रुपए देकर फर्जी पासपोर्ट बनवा कर मुजफ्फरनगर जिले में रहने लगा। इसके बाद अब्दुल्लाह ने बांग्लादेश से आने वाले छात्रों का भी भारत का फर्जी पासपोर्ट बनवाने का काम करना शुरू कर दिया था।

एटीएस ने आतंकी अब्दुल्लाह से पुलिस कस्टडी कड़ी पूछताछ की है। पूछताछ में उसने बताया कि, वह बांग्लादेश के कई युवक पढाई के नाम पर त्रिपुरा,असम, पश्चिम बंगाल से अवैध रूप से भरत आ जाते हैं और फिर दलाल या अन्य लोगों की मदद से यहाँ का पहचान पत्र बनवा लेते है। अब्दुल्लाह ने स्वयं भी 2011 में त्रिपुरा बॉर्डर से खुद का आना स्वीकार किया है। सहारनपुर में पासपोर्ट बनवाने के लिए उसने नौ हजार रुपए भी देना बताया है। जिस व्यक्ति के माध्यम से अब्दुल्लाह ने पासपोर्ट बनवाया उसकी भी तलाश एटीएस कर रही है।

ये भी पढ़ें: यूपी एटीएस ने गिरफ्तार किया एक बांग्लादेशी आतंकी, अन्सारल बांग्ला आतंकी समूह से जुड़े हैं तार

अब्दुल्लाह उल मामून ने अपना मतदाता पहचान पत्र असम के ग्राम नासत्रा, थाना अभयपुरी बंगगईगाँव जिले से बनवाना बताया है, जिसके लिए असम पुलिस से एटीएस ने संपर्क किया है। बंगगईगाँव जिले के पुलिस अधीक्षक ने अपने पत्र में बताया की, जांच में अब्दुल्लाह उल मामून नाम का कोई व्यक्ति उनके जिले के ग्राम नासत्रा,थाना अभयपुरी में रहना नहीं पाया गया है! वहीं एटीएस के पुलिस उपाधीक्षक हृदेश कठेरिया के नेतृत्व में अब्दुल्लाह उल मामून से आगे की पूछताछ जारी है।

ये भी पढ़ें: आतंकियों की धमकी का नहीं असर, पुलिस में भर्ती होने के लिए हजारों कश्मीरियों ने किए आवेदन

Share it
Share it
Share it
Top