लखनऊ : बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों पर बरसीं पुलिस की लाठियां 

लखनऊ : बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों पर बरसीं पुलिस की लाठियां लखनऊ में टीईटी पास अभ्यर्थियों पर पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी।

लखनऊ। राजधानी में नौकरी की मांग को लेकर कई सालों से भटक रहे बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों पर पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी। पुलिस की बर्बरता का आलम इस हद तक था कि उसने महिला अभ्यर्थियों को भी नहीं बख्शा और उन्हें भी दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। पुलिस की पिटाई से कई महिला अभ्यार्थियों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

ये भी पढ़ें-यूपी में खुलेगें एक हजार जन औषधि केन्द्र

पुलिस ने महिला प्रदर्शनकारियों को भी नहीं बख्शा

कई महिलाएं लाठीचार्ज में हुई बेहोश

प्रदेश भर के सैकड़ों की तादात में प्रदर्शनकारी चारबाग रेलवे स्टेशन के सामने एकत्र हुए थे। यहां से सभी ने पैदल मार्च करते हुए विधान सभा के सामने तक विरोध मार्च निकाला। विधानसभा के सामने प्रदर्शकारियों ने सड़क जाम कर दिया और भाजपा के प्रदेश कार्यालय के सामने रोड पर ही लेट गए। चरमराई यातायात व्यवस्था के कारण पुलिस उन्हें हटाने का प्रयास कर रही थी लेकिन वह उग्र हो गए। इस दौरान प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए और धक्का मुक्की करने लगे। इस दौरान प्रदर्शनकारियों को कंट्रोल में करने के लिए पुलिस ने बर्बर तरीके से लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ दिया। इस दौरान भगदड़ में दर्जनों लोग चोटिल हो गए। जिन्हें पुलिस ने सिविल अस्पताल में भर्ती कराया यहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। पुलिस प्रशासन के लोग प्रदर्शनकारियों को लक्ष्मण मेला मैदान ले जा रहे थे, तभी प्रदर्शनकारियों ने हजरतगंज चौराहा जाम कर दिया। इस दौरान फिर ट्रैफिक व्यवस्था पटरी से उतर गई। इस दौरान फिरोजाबाद जिले के सिरसागंज की रहने वाली अंजू पोरवाल बेहोश हो गई। उसे प्रदर्शनकारी हाथों में उठाकर ले जा रहे थे, लेकिन सरकारी स्वास्थ्य सेवा एम्बुलेंस ने फिर धोखा दे दिया। इसके चलते पुलिस ने बेहोश महिला को पुलिस की जीप से सिविल अस्पताल तक पहुंचाया।

ये भी पढ़ें-बेटे के जन्मदिन पर प्रधान ने प्राइमरी स्कूल में कराया आर्केस्ट्रा, वीडियो वायरल

काफी देर तक चौराहे पर चले बवाल के बाद पुलिस ने सभी प्रदर्शनकरियों को लक्ष्मण मेला मैदान भेज दिया। बीएड टीईटी संघर्ष मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष यज्ञदत्त शुक्ला ने बताया, आरटीई एक्ट 2009 के तहत उत्तर प्रदेश में पौने तीन लाख पद खाली हैं। बीएड टेट 2011 के आवेदक सभी योग्यताओं को पूरा करते हैं। योग्यता की अनदेखी करके पूर्व सरकार ने इंटर पास शिक्षामित्रों को अध्यापक बना दिया और योग्य अभ्यर्थी अभी तक रोड पर हैं। अब हमारी सिर्फ और सिर्फ एक ही मांग है कि समस्त टेट2011 पास बीएड अभ्यर्थियों को नियुक्ति देकर उत्तर प्रदेश सरकार योग्यता का सम्मान करे। वहीं इस संबंध में एसपी पूर्वी सर्वेश मिश्रा ने बताया, पुलिस ने उपद्रवियों को नियंत्रण में करने के लिए हलका बल प्रयोग किया था, जिसमें भगदड़ के चलते कुछ लोग घायल हो गए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top