पराग के आधुनिक प्लांट से दुग्ध उत्पादकों को होगा लाभ

Diti BajpaiDiti Bajpai   26 April 2017 3:44 PM GMT

पराग के आधुनिक प्लांट से दुग्ध उत्पादकों को होगा लाभजिलों के दुग्ध उत्पादकों को उनके उत्पादन का सही दाम मिलेगा।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। लखनऊ ही नहीं आस-पास के कई जिलों के दुग्ध उत्पादकों को उनके उत्पादन का सही दाम मिलेगा, लखनऊ दुग्ध संघ (पराग) के आधुनिक प्लांट के शुरु होने से किसानों को ये सुविधा मिलेगी।

लखनऊ से सुल्तानपुर रोड पर स्थित आधुनिक प्लांट पर नई समितियों से राजधानी व आसपास के गांवों के 60 हजार किसानों को इससे फायदा होगा। प्लांट पर दूध की आपूर्ति डेढ़ लाख लीटर प्रति दिन से बढ़कर तीन लाख लीटर हो जा रही है। वर्तमान में राजधानी के 50 हजार से अधिक किसान जुड़े हैं, जो बढ़कर 1.10 लाख के करीब हो जाएंगे। इससे डेयरियों की संख्या भी बढ़ेगी और आम लोगों को ताजा दूध भी मिल सकेगा।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 20 किमी. दूर गोसाईंगंज ब्लॉक के मलौली गाँव में रहने वाले अतुल यादव (44 वर्ष) के पास पांच भैंस है। अतुल बताते हैं, “हमको जहां सही रेट मिलता है हम वहां दूध बेचते है अभी आधा दूध समिति को देते है और आधा बाजार में। अभी यही है कि इस प्लांट से हमको कोई फायदा नहीं है क्योंकि दूध का रेट बहुत कम मिलता है।”

आधुनिक प्लांट का निर्माण कार्य चल रहा है, जल्द ही इस प्लांट को शुरु किया जाएगा। इस आधुनिक प्लांट से किसानों की संख्या बढ़ेगी और उन्हें रोजगार के अधिक अवसर मिलेंगे। इसके साथ ही दुग्ध सहकारी समितियों की संख्या भी 600 से बढ़कर करीब 1200 हो जाएगी।
दिनेश कुमार सिंह, महाप्रंबधक, लखनऊ दुग्ध संघ

लखनऊ दुग्ध संघ के आकड़ों के अनुसार पूरे प्रदेश में सात हजार समितियां हैं, जिनमें से लखनऊ में 600 है। लखनऊ की इन समितियों से प्रतिदिन 40 से 50 हजार लीटर दूध आता है।

137 करोड़ की लागत से बनने वाले आधुनिक प्लांट से राजधानी सहित आसपास के जिलों के किसानो को भी लाभ होगा। पांच एकड़ में आधुनिक स्वचालित मशीनों से दूध की पैकिंग के साथ ही दूध नई तकनीक के आने से दुग्ध संघ के प्रसार क्षेत्र में भी बढ़ोतरी होगी संघ से जुड़ने से खेतों में हाड़तोड़ मेहनत करने वाले किसानों को अतिरिक्त आमदनी करने का अवसर दिया जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top