जनता ने पेट्रोल पंपों पर छापेमारी के फैसले को सही, हड़ताल को गलत ठहराया

जनता  ने पेट्रोल पंपों पर छापेमारी के फैसले को सही,  हड़ताल को गलत ठहरायापेट्रोल पंप मालिकों के खिलाफ घटतौली की कार्रवाई को सही ठहराते लोग।

आभा, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार की ओर से शुरू की गई पेट्रोल पंपों पर घटतौली की जांच के लिए छापेमारी और दोषी पाए जाने वाले पेट्रोल पंप संचालकों के खिलाफ कार्रवाई को जनता ने सही ठहराया है। यही नहीं हड़ताल करने वाले पंप मालिकों का लाइसेंस रद्द करने की भी मांग उठी है। इस पर ‘गाँव कनेक्शन’ ने कुछ लोगों से राय जानी तो उन्होंने स्पष्ट रूप से योगी सरकार के निर्णय को सही ठहराया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कन्नौज शहर निवासी टेंपो चालक चांद बाबू कहते हैं, ‘‘हम पढ़े-लिखे नहीं हैं। पेट्रोलपंप वाले जितना दे देते हैं उतना पेट्रोल डलाकर चले जाते हैं। ऐसे में उसने अगर 50 रुपए का घाटा भी लगा दिया तो क्या पता। सरकार अच्छा काम कर रही है।’’

योगी सरकार ने जनता के हित में सोचा

जिला मुख्यालय से 16 किमी दूर तिर्वा कस्बा निवासी उमाशंकर का कहना है, ‘‘सरकार का फैसला सही है। भ्रष्टाचार के खिलाफ जितनी भी सरकारें थीं, उन्होंने इसके बारे में नहीं सोचा। कम से कम योगी सरकार तो इस पर सोच रही है। साथ ही उस पर अमल भी कर रही है।’’ कन्नौज के ही प्रदीप कुमार बताते हैं , ‘‘सरकार का स्टेप बिल्कुल सही है। जो पंप मालिक हड़ताल पर जा रहे हैं यह गलत है। ऐसा करने वालों के लाइसेंस भी निरस्त कर नए लोगों को देना चाहिए।’’

आशू मिश्र (50वर्ष) का कहना है, ‘‘पेट्रोल पंपों पर चिप लगाकर चोरी करने के खिलाफ जो कार्रवाई की जा रही है वह बेहतर है। भाजपा सरकार का यह प्रयास सराहनीय है। अगर कार्रवाई होने से पंप मालिक हड़ताल पर जा रहे हैं, तो यह देश हित में नहीं है। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।’’

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top