बच्चों की बदौलत पहनी पगड़ी और सम्मान में ओढ़ी शाल

बच्चों की बदौलत पहनी पगड़ी और सम्मान में ओढ़ी शालअपने माता-पिता के साथ तेजस्वी।

लखनऊ। पिता सिर पर पगड़ी पहने और माताएं कंधे पर शाल डाले अपने अपने बच्चों को बड़े गर्व से निहार रही थीं। बच्चों की बदौलत उन्हें मिले सम्मान को वो खुले मन से जीना चाह रहे थे मुख्यमंत्री के हाथ से सम्मानित होने के बाद यूपी बोर्ड की हाईस्कूल टॉपर तेजस्वी विश्वकर्मा के पिता शिवस्वरूप विश्वकर्मा ने कहा, "बेटियां बहुत आगे ले जा सकती हैं। वो जो बनना चाहती है वो बने। हम अपनी इच्छा नहीं थोपना चाहते। हमने पहले कभी नहीं सोचा था कि ऐसे बेटी हमारा नाम रोशन करेगी।"

ये भी पढ़ें- पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए कलंक बन रही काली नदी, 1200 गाँव चपेट में

प्रांजल श्रीवास्तव अपनी मां के साथ।

वहीं अपनी बेटी के साथ बगल में बैठी तेजस्वी की मां ऊषा देवी विश्वकर्मा ने कहा, "हमारे चार बच्चे हैं, लेकिन यह सम्मान मुझे बेटी की बदौलत ही मिला। हमे मुख्यमंत्री से मिलकर बहुत अच्छा लग रहा है।"

टॉपर प्रांजल श्रीवास्तव की मां प्रियंका श्रीवास्तव ने कहा, "जो टीवी पर देखा करते थे, वो बच्चों ने दिखा दिया। आज मुझे बहुत बच्छा लग रहा है।"

प्रतिभाशाली बच्चों का किया गया सम्मान।

लोकभवन के बड़े से हाल में एक रंग की पगड़ी और शाल इन बिलक्षण प्रतिभाओं के माता-पिता का सीना शान से चौड़ा कर रही थी। इन कुर्सियों पर प्रदेश के लगभग हर जिले से लोग थे। लगभग सभी की ज़िंदगी में पहला

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.