उत्तर प्रदेश

...तो बैलट पेपर से हो सकते हैं यूपी में होने वाले नगर निगम चुनाव  

लखनऊ (भाषा)। यूपी चुनाव आयोग ने केंद्रीय निर्वाचन आयोग से प्रदेश के शहरी निकायों के चुनाव कराने के लिए नई ईवीएम मुहैया कराने की मांग की है। यूपी चुनाव आयुक्त का कहना है कि वह 2006 से पहले की ईवीएम से चुनाव नहीं कराएंगे इसलिए या तो नई मशीन दी जाए या फिर चुनाव पारंपरिक बैलट पेपर से कराए जाएं।

राज्य निर्वाचन आयुक्त एस के अग्रवाल ने कहा, ‘हाल ही में मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी से मेरी बात हुई है और मैंने उनसे नई ईवीएम (इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन) मुहैया कराने का अनुरोध किया है, नहीं तो हमें शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव बैलट पेपर के जरिए कराने की अनुमति दी जाए।’ अग्रवाल ने कहा कि शहरी स्थानीय निकायों की चुनाव प्रक्रिया जुलाई के दूसरे सप्ताह तक संपन्न करनी है। वर्तमान समय में राज्य निर्वाचन आयोग सीमांकन को लेकर युद्धस्तर पर कार्य कर रहा है।

हालांकि समय सीमा कम होने की वजह से ऐसा माना जा रहा है कि केंद्रीय चुनाव आयोग यूपी में बैलट पेपर से चुनाव कराने की अनुमति दे सकता है।

बताते चलें कि इससे पहले 2011 का चुनाव ईवीएम से हुआ था लेकिन उसके पहले के चुनाव बैलट पेपर से ही होते थे।