यूपी बोर्ड: इस बार 67 लाख छात्र देंगे परीक्षा

Op singh parihaarOp singh parihaar   2 Nov 2017 4:02 PM GMT

यूपी बोर्ड: इस बार 67 लाख छात्र देंगे परीक्षाप्रतीकात्मक फोटो 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

इलाहाबाद। वर्ष 2018 की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की वार्षिक परीक्षा में इस बार परीक्षार्थियों की संख्या में इजाफा हुआ है। परीक्षा को हर साल से पूर्व करने कराने के लिए यूपी बोर्ड की ओर से समय-सारिणी भी घोषित की जा चुकी है। बोर्ड परीक्षा छह फरवरी से शुरू होकर 10 मार्च तक समाप्त हो जाएगी।

माध्यमिक शिक्षा परिषद की 2018 की परीक्षा के लिए 67,02,483 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण करवाया है। इसमें हाईस्कूल के 37,12, 508 छात्र हैं। इंटर मीडिएट की परीक्षा के लिए 29,89,975 परीक्षार्थियों ने पंजीकरण करवाया है। पिछले वर्ष हुई यूपी बोर्ड के दोनों कक्षाओं की परीक्षा में शामिल परीक्षार्थियों की संख्या से इस वर्ष शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या अधिक है। 2017 के हाईस्कूल की परीक्षा में हाईस्कूल के 34,01,511 परीक्षार्थी और इंटरमीडिएट के 26,54,492 परीक्षार्थी पंजीकृत थे।

ये भी पढ़ें- बोर्ड परीक्षा के हर परीक्षार्थी की कॉपी की होगी अलग पहचान

यूपी बोर्ड के द्वारा घोषित समय-सारिणी के मुताबिक, इस बार यूपी बोर्ड की परीक्षा छह फरवरी से शुरू होकर 10 मार्च तक समाप्त हो जाएगी, जिसमें हाईस्कूल की परीक्षा 22 फरवरी को समाप्त हो जाएगी और इंटरमीडिएट की परीक्षा 10 मार्च को मानव विज्ञान के पेपर के साथ समाप्त होगी। हाईस्कूल की परीक्षा गृह विज्ञान और इंटरमीडिएट की हिंदी विषय के साथ शुरू होगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद के सचिव नीना श्रीवास्तव के मुताबिक, लिखित परीक्षा के पूर्व प्रायोगिक परीक्षा पूरी कर ली जाएगी।

हर बार नकलविहीन परीक्षा कराने का प्रयास किया जाता है, लेकिन इस बार नकलविहीन परीक्षा के लिए कुछ विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। हर साल की अपेक्षा इस बार परीक्षा पूर्व में आयोजित की जा रही है, जिसमें सभी की सुविधा का ख्याल रखा गया है।
नीना श्रीवास्तव, सचिव, उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा, इलाहाबाद

ये भी पढ़ें- बिहार बोर्ड : मैट्रिक की परीक्षा 21 से 28 फरवरी तक, 22 से 24 जनवरी तक प्रैक्टिकल

पहली बार ऑनलाइन होगा परीक्षा केंद्र का निर्धारण

नकलविहीन परीक्षा कराने के लिए यूपी बोर्ड पूरी तरह से कमर कसकर तैयार है। परीक्षा केंद्र निर्धारण के दौरान धांधली कराकर अपने मंसूबे में सफल होने वाले नकल माफियाओं को निराशा हाथ लगनी है। यूपी बोर्ड इस बार परीक्षा केंद्र का निर्धारण पूर्व घोषित नियमों के आधार पर ऑनलाइन करेगा, जिसमें पूरी तरह से पारदर्शिता बरती जाएगी। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top