यूपी : पवन हंस 2500 रूपये में कराएगा तीर्थ स्थलों की यात्रा  

यूपी : पवन हंस 2500 रूपये में कराएगा तीर्थ स्थलों की यात्रा   फाइल फोटो 

लखनऊ। इलाहाबाद, वाराणसी, मथुरा और अयोध्या इन तीर्थ स्थलों पर जाने के लिए जहां पहले आपको दो या चार दिन लगते थे, वही अब जल्दी ही पवन हंस की सेवा शुरू होने से आपको बहुत कम समय में इसका पूरा लाभ मिलने वाला है।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 22-23 सितंबर की यात्रा से पहले आदित्य योगीनाथ की उत्तर प्रदेश सरकार, पवन हंस के साथ मिलकर एक योजना शुरू करने जा रही है। जिसके तहत उत्तर प्रदेश के चार धामों की यात्रा हेलिकॉप्टर से कराई जाएगी।

ये भी पढ़ें-पिता के इलाज के लिए बच्ची ने पीएम को लिखी चिट्ठी, सीएम योगी ने इलाज का दिया आदेश

टीओआई को मिली ताजा जानकारी के अनुसार पवन हंस और योगी सरकार के बीच फिलहाल चार क्षेत्रों को लेकर ड्राफ्ट तैयार हुए हैं। जिसमें गंगा दर्शन (वाराणसी), गोवर्धन परिक्रमा (मथुरा-वृदांवन), त्रिवेणी दर्शन (इलाहाबाद) और अयोध्या दर्शन शामिल है।

इसमें शुरूआत में पवन हंस थ्री सिंगल इंजन लाइट हेलिकॉप्टर ही उ.प्र. के लिए भेजेगा, जिसमें पायलट के अलावा पांच सीटें रहेंगी। उ.प्र. टूरिज्म के एक अधिकारी के अनुसार, 'सभी धर्म स्थलों की यात्रा का प्रति व्यक्ति किराया 2500 रु. है और चारों स्थलों के दर्शन का खर्च 10,000 रु. आएगा, जिसमें आगे चलकर कुछ छूट भी देने की योजना है।'

दरअसल राज्य सरकार 2019 के अर्ध कुंभ मेला से पहले इस पूरे इलाके में वाइल्ड लाइफ से कुछ अलग टूरिज्म को बढ़ावा देनी की योजना बना रही है। एक टूरिज्म अधिकारी ने कहा, 'अब तक इन स्थलों में लगने वाली लंबी लाइनों, शहर का ट्रैफिक जाम और मुश्किल से मिलते होटलों की वजह से कई लोग आने का मन नहीं बनाते थे। मगर कुंभ मेला के लिए जुटने वाली भारी भीड़ को सोचते हुए वाराणसी तक प्रधानमंत्री के दौरे तक टेस्ट हवाई सेवा देने की योजना है। जिसे दीवाली तक पूरी तरह से सुचारू कर लिया जाएगा।' हालांकि अधिकारियों ने अयोध्या के विवादित राम जन्म भूमि की यात्रा पर अभी साफ तौर पर कुछ नहीं कहा है।

ये भी पढ़ें-कर्जमाफी योजना का असल मुद्दा : जिन्होंने समय पर चुकाया कर्ज, उन्हीं ने उठाया नुकसान

इस बारे में आगे अधिकारी ने कहा सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षा एजेंसियों से संपर्क साधा जाएगा। इस ज्वॉइंट वैंचर के लिए फिलहाल पवन हंस और उ.प्र. टूरिज्म डेवलपमेंट कारपोरेशन दोनों 25 करोड़ रु. खर्च करेंगी। इसके अलावा राज्य सरकार की ओर से कम से कम 50 घंटे के लिए उड़ाने भरने की बात अभी की जा रही है। फिलहाल तैयार मसौदे के मुताबिक क्रू की देखभाल,फ्यूल स्टॉक और सुरक्षा का जिम्मा पवन हंस का रहेगा। इसके साथ उड़ानों के टेक-ऑफ और लैडिंग के लिए छह हेलिपेड्स भी तैयार किए जाने हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top