विद्यालय के गेट पर खुले में रखा ट्रांसफार्मर, कभी भी हो सकता है हादसा

विद्यालय के गेट पर खुले में रखा ट्रांसफार्मर, कभी भी हो सकता है हादसाहादसे को दवात देताा खुले में रखा ट्रांसफार्मर 

नवनीत अवस्थी, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

पाटन (उन्नाव)। पावर कार्पोरेशन के सुरक्षा नियमों को ताख पर रखकर स्थानीय कस्बा पाटन सहित क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर विद्यालय के नजदीक, बाजार व भीड़भाड़ वाले स्थानों पर सुरक्षा को नजरअंदाज करते हुये खुले मे रखे बिना बाड़े के ट्रांसफार्मर लोगों के लिए असुरक्षा का सबब बने हुए हैं।

ये भी पढ़ें : यूपी में अब तक डेढ़ लाख भू माफिया पहचाने गए, 42 पर लगा गुंडा एक्ट, आगे ये है तैयारी

ग्रामीणों द्वारा इस संबंध मे कई बार बिजली विभाग के उच्चाधिकारियों से मांग किये जाने पर भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। सुरक्षा नियमों की अनदेखी कर अधिक क्षमता वाले ट्रांसफार्मरो को फाउंडेसन पर रखा गया है साथ ही ट्रान्सफार्मर के साथ खुले तार भी प्रयोग किए गए हैं । कम ऊंचाई पर रखे ट्रांसफार्मर बच्चों, राहगीरों व अन्य जीवों के लिए जरा सी असावधानी खतरनाक साबित हो सकती है।

ये भी पढ़ें : जीएसटी से दहशत में किसान, एक जुलाई से महंगी होगी खेती, लेकिन किस-किस पर पड़ेगा असर, पता नहीं

एक जुलाई से परिषदीय विद्यालयों की कक्षाएं संचालित होनी हैं। किंतु शिक्षार्थियों की सुरक्षा को लेकर जिम्मेदार अंजान बने हुए हैं। क्षेत्र के पाटन व बिहार उच्च प्राथमिक विद्यालय गेट के बाहर कम ऊंचाई पर रखा ट्रांसफार्मर कभी भी खतरनाक साबित हो सकता है।

इसी प्रकार राधागंज बाजार, भगवन्तनगर आदि जगहों पर कम ऊंचाई पर रखे ट्रांसफार्मर जानलेवा साबित हो सकते हैं। इसके साथ ही सड़क के ऊपर बिना सपोर्ट तार के झूलती जर्जर लाइनें कई बार दुर्घटनाओं की वजह बन चुकी हैं। जानमाल की हानि के बावजूद विभाग सबक नहीं ले रहा।

पाटन व भगवंतनगर उपकेन्द्र के प्रभारी जेई अशोक कुमार मौर्य कहते हैं, "ट्रांसफार्मर को उतारने चढ़ाने में आसानी हो इसलिए कम ऊंचाई पर रखे गए हैं। सुरक्षा मानकों के विपरीत ट्रांसफार्मरों का चिन्हांकन कराया जाएगा।"

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top