अखिलेश सरकार की अनदेखी के चलते पीएम आवास योजना में पीछे रह गया यूपी : भाजपा

अखिलेश सरकार की अनदेखी के चलते पीएम आवास योजना में पीछे रह गया यूपी : भाजपाभाजपा प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला।

लखनऊ (भाषा) भारतीय जनता पार्टी ने आज कहा कि पूर्ववर्ती अखिलेश यादव सरकार द्वारा गरीबों की अनदेखी के चलते ‘पीएम आवास योजना' में उत्तर प्रदेश सबसे पीछे हैं। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा, ‘‘पीएम आवास योजना के तहत आम जन को मकान मुहैया कराने के मकसद से केंद्र सरकार ने एक दो नहीं बल्कि 13 बार पत्र लिखा लेकिन सूबे की पूर्व की सपा सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंगी।''

ये भी पढ़ें- यूपीः किसानों की कर्जमाफी को अखिलेश यादव ने बताया धोखा, राहुल गांधी ने सराहा

शुक्ला ने कहा, ‘‘अपनी ब्रांडिंग करने में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को जनता का दुख-दर्द याद नहीं रहा। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली प्रदेश की भाजपा सरकार में कोई भी बिना मकान के नहीं रहेगा।'' उन्होंने कहा, ‘‘पूर्वीवर्ती अखिलेश सरकार की गरीबों के प्रति अनदेखी के कारण पीएम आवास योजना में यूपी सबसे पीछे है।'' शुक्ला ने कहा कि योगी सरकार का उत्तर प्रदेश के प्रत्येक परिवार के पास 2022 तक मकान का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सपा सरकार के समय यूपी से सबसे कम 11000 प्रस्ताव भेजे गए। एक सर्वे के मुताबिक उत्तर प्रदेश में मौजूदा समय में करीब 29.22 लाख मकानों का आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें- अखिलेश यादव ने कहा- पेट्रोल पंप में डिवाइस के जरिये घटतौली संभव तो ईवीएम में टेंपरिंग क्यों नहीं

योगी सरकार ने अगले 2018 तक छह लाख भवन बनाने का निर्णय लिया। प्रवक्ता ने कहा कि योगी सरकार केवल गरीबों की ही चिंता नहीं कर रही बल्कि मध्यम वर्ग के परिवारों का भी ध्यान में रख रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने पिछले दिनों यहां लोकभवन में कहा कि अयोध्या सहित 61 शहरों में केंद्र सरकार की अटल शहरी पुनर्जीवन तथा शहरी परिवर्तन (अमृत) योजना के अधीन 11422 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

मनीष के मुताबिक नायडू ने बताया कि उत्तर प्रदेश में 1263 करोड़ रुपए में से अमृत योजना के लिए 375 करोड़-करोड़ रुपए, स्मार्ट सिटी के लिए 442 करोड़ रुपए तथा लखनऊ मेट्रो के लिए 446 करोड़ रुपए जारी कर दिया गया है। परियोजनाएं मार्च 2020 तक पूरी की जाएंगी। प्रदेश प्रवक्ता ने बताया कि अमृत परियोजना के अधीन वर्ष 2020 तक 13 लाख पेयजल कनेक्शन दिए जाएंगे। इतना ही नहीं पीडितों को तत्काल राहत पहुंचाने के साथ मौके पर खुद मुख्यमंत्री पहुंचकर निर्देश दे रहे हैं।

Share it
Top